• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • दावा! 'जिन्ना' के नाम पर रखा शराब का नाम, Social Media पर मचा है बवाल

दावा! 'जिन्ना' के नाम पर रखा शराब का नाम, Social Media पर मचा है बवाल

जिन्ना की याद में रखा शराब का नाम.

जिन्ना की याद में रखा शराब का नाम.

Alcoholic Drink Named After Jinnah: सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरों के साथ ऐसा दावा किया जा रहा है कि शराब के एक ब्रांड ने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के नाम पर नई शराब का नाम Ginnah रखा है. हालांकि इस दावे की सत्यता की पुष्टि नहीं की जा सकी है.

  • Share this:
    इस्लामाबाद. सोशल मीडिया पर इन दिनों एक कथित शराब को लेकर बवाल मचा हुआ है. एक ट्वीट में दावा किया गया है कि एक नई शराब के ब्रांड का नाम पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के नाम पर Ginnah रखा गया है. हालांकि हालांकि समाचार एजेंसी एएनआई ने इस बोतल की सत्यता की पुष्टि नहीं की है. लेकिन कई ट्विटर यूजर्स गिन्ना के बारे में लगातार पोस्ट कर रहे हैं.

    इस ट्वीट में जिन्ना के नाम का जिक्र करते हुए कहा गया है कि उन्होंने वो सब कुछ किया जो इस्लाम में वर्जित है, पूल बिलियर्ड्स, सिगार, पोर्क सॉसेज के साथ-साथ शानदार स्कॉच, व्हिस्की और शराब का उन्होंने जमकर इस्तेमाल किया. समाचार एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक एक ट्विटर यूजर ने जिन्ना के नाम पर 'गिन्ना' नाम की एक बोतल की तस्वीरें पोस्ट कीं. बोतल के लेबल पर लिखा है, 'इन द मेमोरी ऑफ द मैन ऑफ प्लेजर, हू वाजः गिन्ना.' शराब की बोतल पर पीछे की तरफ अंग्रेजी में भी ये लिखा गया है कि ये शराब जिन्ना की याद में लॉन्च की गयी है.







    पाकिस्तान के संस्थापक हैं जिन्ना
    मोहम्मद अली जिन्ना का जन्म 25 दिसंबर, 1876 को कराची में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है, लेकिन तब वह ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन भारत का हिस्सा था. उन्होंने भारत से अलग एक स्वतंत्र पाकिस्तान के लिए जोरदार आंदोलन चलाया और इसके पहले नेता बने. जिन्ना को पाकिस्तान में 'कायदे-ए आजम' या 'महान नेता' के रूप में जाना जाता है.



    शराब की बोतल के लेबल पर जिन्ना के बारे में लिखा गया है कि मोहम्मद अली जिन्ना पाकिस्तान के संस्थापक थे जो 1947 में एक धर्मनिरपेक्ष राज्य के रूप में अस्तित्व में आया. आगे लिखा है, कुछ दशक बाद पाकिस्तान के चार सितारा जनरल मोहम्मद जिया-उल-हक ने 1977 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो का तख्तापलट कर दिया था. लेबल पर लिखा गया है कि एमए जिन्ना को कभी भी यह मंजूर नहीं होगा जबकि उन्होंने पूल बिलियर्ड्स, सिगार, पोर्क सॉसेज के साथ-साथ बढ़िया स्कॉच व्हिस्की और शराब का आनंद लिया.



    इस्लाम में शराब है हराम
    नशा और सट्टेबाजी को इस्लाम में 'हराम' या निषिद्ध माना जाता है. हराम एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ है 'निषिद्ध'. कुरान और सुन्नाह के धार्मिक ग्रंथों में जिन चीजों को करने से मना किया गया है वो हराम है. यदि किसी चीज को हराम माना जाता है, तो यह प्रतिबंधित होता है भले ही इरादा कितना भी अच्छा क्यों न हो, या उद्देश्य कितना सम्मानजनक क्यों न हो.



    पाकिस्तानी ट्विटर यूजर्स ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया. एक यूजर ने चुटकी लेते हुए कहा, 'गिन्ना को नेशनल ड्रिंक बनाने की जरुरत है.' एक अन्य ने ट्वीट कर कहा, '"लानत है! हमारे संस्थापक के नाम पर शराब का नाम है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज