• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • मॉडल को टैटू बनवाना पड़ गया भारी, चली गई एक आंख की रोशनी

मॉडल को टैटू बनवाना पड़ गया भारी, चली गई एक आंख की रोशनी

फोटो सौ. (@anoxi_cime / Instagram)

फोटो सौ. (@anoxi_cime / Instagram)

पॉलैंड (Poland) में रहने वाली 25 साल की मॉडल को आंखों पर टैटू (Tattoo) बनाना इतना भारी पड़ गया कि उनकी एक आंख की रोशनी चली गई. अब डॉक्टरों का कहना है कि इस आंख की रोशनी का वापस आना मुश्किल ही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    वॉरसॉ. आज कल टैटू (Tattoos) बनवाना फैशन का एक हिस्सा बन गया है. इन दिनों यंग लोगों के एक टैटू एक स्टाइल स्टेटमेंट माना जाता है. लेकिन कई बार टैटू आर्टिस्ट की एक गलती की वजह से काफी नुकसान हो सकता है. ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें एक मॉडल को टैटू बनवाना काफी खतरनाक साबित हुआ. पोलैंड (Poland) की रहने वाली 25 साल की मॉडल को आंखों पर टैटू बनवाना काफी भारी पड़ गया है. गलत टैटू बनने की वजह से मॉडल की आंखों की रोशनी चली गई.

    मॉडल एलेक्जैंड्रा सडोवस्का की एक आंख की रोशनी पूरी तरह से जा चुकी हैं. वहीं दूसरी आंख की भी रोशनी जाने की संभावना जताई जा रही है. दरअसल मॉडल आर्टिस्ट पोपेक की तरह आईबॉल टैटू बनवाना चाहती थी. टैटू बनवाने के लिए मॉडल टैटू आर्टिस्ट के पास गई थी. आईबॉल टैटू बनवाते वक्स आर्टिस्ट से एक गलती हो गई, टैटू आर्टिस्ट ने गलत इंक का इस्तेमाल करते हुए बॉडी इंक का इस्तेमाल किया था. जिसके चलते मॉडल के आंखों में दर्द हुआ था. जिसके लिए आर्टिस्ट ने मॉडल को नॉर्मल दर्द की दवाई खाने के लिए दी थी. बाद में पता चला कि उनकी आंखों की रोशनी चली गई. एलेक्जैंड्रा की आंखों की रोशनी को वापस लाने के लिए तीन सर्जरी भी करवाई गई लेकिन उनकी आंखों की रोशनी वापस आना मुश्किल है. वहीं मॉडल को इस बात का भी डर है कि कहीं उनकी दूसरी आंखों की रोशनी न चली जाए. फिलहाल इस मामले में आर्टिस्ट को तीन साल की सजा सुनाई गई है.

    ये भी पढ़ें: ब्रिटेन: शार्ट्स पहनने पर लगाई रोक तो स्कर्ट पहनकर स्कूल पहुंच गए स्टूडेंट

    आंखों के सफेद हिस्से पर बनता है टैटू
    बताते चलें कि आईबॉल टैटू को स्क्लेरल या कॉर्नियल टैटू भी कहा जाता है. आईबॉल टैटू में इंसान की आंखों के सफेद हिस्से पर टैटू बनाया जाता है.इसके लिए आंखों के सफेद हिस्से पर अलग-अलग कलर के इंक का प्रोयग करते हैं. इंजेक्शन की मद से इंक डाला जाता है. सफेद हिस्से पर अलग अलग कलर के इंक का प्रयोग किया जाता है. आंखों के अंदर सफेद हिस्से पर अलग अलग इंक के कलर का इस्तेमाल किया जाता है. कुछ वक्त के बाद सफेद हिस्से में कलर फैल जाता है. आई बॉल टैटू बनवाना एक जोखिम भरा काम है. ऐसा इसलिए क्योंकि एक छोटी सी गलती की वजह से इसमें आंखों की रोशनी जा सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज