करोड़ों साल पहले डायनासोर को भी होती थी कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी, रिसर्च में हुआ खुलासा

करोड़ों साल पहले डायनासोर को भी होती थी कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी, रिसर्च में हुआ खुलासा
7.6 करोड़ साल पुरानी डायनासोर के पैर हड्डी (फाइल फोटो)

कनाडा के शोधकर्ताओं ने वैज्ञानिक पत्रिका द लैंसेट ऑन्कोलॉजी के अगस्त अंक में प्रकाशित एक अध्ययन में दावा किया है कि उन्होंने डायनासोर (Dinosaur) में कैंसर के पहले मामले की खोज कर ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 7, 2020, 3:48 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. कैंसर (Cancer) ऐसी खतरनाक बीमारी हैं जिसका अभी तक पुख्ता ईलाज नहीं मिला है. हालांकि, शुरूआती स्टेज में अगर यह पता चल जाता है कि किसी को कैंसर हैं तो वो दवाईयों के सहारे इस जानलेवा बीमारी से जंग जीतने में सफल हो जाता है. लेकिन फिर भी इस दौरान जो दवाइंया उसे दी जाती है उससे उसके शरीर को काफी नुकसान पहुंचता है. कैंसर जैसी खतरनाकत बीमारी किसी को भी हो सकती है क्योंकि यह किसी व्यक्ति के खान पान के तरीके पर निर्भर करती है. लेकिन, यह आप यह जानकर हैरान हो जाएंगे की हजारों सालों पहले धरती पर मौजूद डायनासोर (Dinosaur) को भी कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होती थी. द लैंसेट ऑन्कोलॉजी के अगस्त अंक में प्रकाशित एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.

कनाडा के शोधकर्ताओं ने वैज्ञानिक पत्रिका द लैंसेट ऑन्कोलॉजी के अगस्त अंक में प्रकाशित एक अध्ययन में दावा किया है कि उन्होंने डायनासोर में कैंसर के पहले मामले की खोज कर ली है. सेंट्रोसॉरस के एक पैर की हड्डी को 1989 में कनाडा के अल्बर्टा प्रांत के जीवाश्म वैज्ञानिकों ने खोजा था. 7.6 करोड़ साल पुराने डायनासोर के पैर की इस हड्डी के बारे में विशेषज्ञों ने शुरू में माना कि हड्डी में एक फ्रैक्चर हुआ था जो ठीक हो गया था. लेकिन हालिया परिक्षण के अनुसार, एक माइक्रोस्कोप के तहत और उन्नत तकनीकों का उपयोग करते हुए, जैसे कि उच्च-रिज़ॉल्यूशन टोमोग्राफी, से खुलासा हुआ कि हड्डी पर एक सेब का आकार की गांठ थी, जो वास्तव में एक कैंसर ट्यूमर था. लेंसेट ऑन्कोलॉजी जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, सेंट्रोसॉरस डायनासोर की हड्डी में जो विकृति नजर आ रही थी वो असल में ओस्टियो सारकोमा के कारण हुई थी. ओस्टियो सारकोमा हड्डी का एडवांस कैंसर होता है.

हीलींग फ्रैक्चर या हड्डी में संक्रमण
ऑन्टेरिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता डॉ. मार्क क्राउथर, जो अध्ययन के लेखकों में से एक हैं उनके मुताबिक,"डायनासोर का जीवन आसान नहीं था, उनमें से कई में हीलींग फ्रैक्चर या हड्डी में संक्रमण जैसी समस्या होती थी." उन्होंने आगे कहा,"इस तरह की प्राचीन हड्डियों पर, "कैंसर के सबूत खोजना मुश्किल है". ऐसे कई ट्यूमर सॉफ्ट टिश्यू में होते हैं जो आसानी से जीवाश्म में तब्दील नहीं होते हैं. इसलिए जीवाश्म से हमें कैंसर के प्रमाण मिले हैं. रिसर्च में आए नतीजों में इस बात की भी पुष्टि की गई है कि कैंसर कोई नई बीमारी नहीं है, इससे जुड़े कॉम्पलिकेशन जानवरों में भी पाए जाते रहे हैं.
ये भी पढ़ें: बीच में मिला एलियन जैसी शक्ल का अनोखा जीव, सोशल मीडिया पर Viral हुई तस्वीरें



चार पैर वाले शाकाहारी डायनासोर
कनाडा के टोरंटो स्थित रॉयल ओंटेरियो म्यूजियम के जीवाश्म विज्ञानी डेविड इवांस के अनुसार,"डायनासोर की यह हड्डी 6 मीटर लंबी है जो क्रेटेशियस काल की है. उस समय चार पैर वाले शाकाहारी डायनासोर हुआ करते थे. डायनासोर की यह जो हड्डी मिली है, वो उसके पीछले टांग की है." वहीं एक अन्य शोधकर्ता ने कहा,"यह देखकर हैरानी होती है कि यह कैंसर लाखों साल पहले मौजूद था और अभी भी मौजूद है." हालांकि, शोधकर्ताओं का मानना है कि यह कैंसर नहीं था जिसने सेंट्रोसोरस को मार दिया था, उसके पैर की हड्डी एक ही झुंड में सौ हड्डियों के बीच पाई गई थी, शायद बाढ़ जैसे अचानक आई आपदा से बह गई. मार्क क्राउथर ने आगे कहा,"इस कैंसर की खोज डायनासोर को वास्तविक बनाती है. हम अक्सर उन्हें एक विशाल और मजबूत कदम के साथ चलने वाले पौराणिक प्राणियों के रूप में कल्पना करते हैं, लेकिन वे मनुष्यों जैसी बीमारियों से पीड़ित थे."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज