VIDEO: जंगल में फोटो खिंचा रहा था बच्चा और पीछे से अचानक आ गया भालू, ऐसे बची जान

VIDEO: जंगल में फोटो खिंचा रहा था बच्चा और पीछे से अचानक आ गया भालू, ऐसे बची जान
जब पीछे से अचानक आ गया भालू...

उत्तरी इटली (Italy) के ब्रेंता डोलोमाइटिस इलाके में एक ऐसा ही मामला सामने आया जब हाइकिंग करने गए एक 12 साल के बच्चे के पास पीछे से अचानक के करीब 10 फीट बड़ा भालू (Bear attack) आ गया.

  • Share this:
रोम. इटली (Italy) के जंगलों में हाइकिंग और ट्रेकिंग करने वाले लोगों पर भालू (Bear Attack) के हमले की ख़बरें अक्सर आती रहती हैं. बीते दिनों उत्तरी इटली के ब्रेंता डोलोमाइटिस इलाके में एक ऐसा ही मामला सामने आया जब हाइकिंग करने गए एक 12 साल के बच्चे के पास पीछे से अचानक के करीब 10 फीट बड़ा भालू आ गया. बच्चा फोटो खिंचा रहा था तभी पीछे एक एक बड़ा सा भालू वहां पहुंच गया जिसके बाद सभी की सांसे रुक गयीं.

द सन के मुताबिक इस बच्चे का नाम अलेसांद्रो बताया जा रहा है और उसकी ये वीडियो इटली में सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. ये अपने परिवार के साथ ही हाइकिंग पर गया था. वीडियो में नज़र आ रहा है कि बच्चा फोटो खिंचा रहा था और अचानक भालू आ जाता है. हालांकि बच्चे ने काफी समझदारी दिखाई और पैनिक होने की जगह धीरे-धीरे वहां से अपने परिवार की तरफ आ गया. इस दौरान भालू की नज़र भी उस पर पड़ गयी थी और वो दो पैरों पर खड़े होकर उसे देखने लगा. हालांकि बच्चा सतर्कता बरतते हुए भागा नहीं और परिवार के पास सुरक्षित आ गया.





वीडियो में नज़र आ रहा है कि भालू और बच्चे के बीच की दूरी 2 मीटर से भी कम थी. जानकारों के मुताबिक अगर बच्चा घबरा गया होता या फिर भागा होता तो भालू ज़रूर उस पर हमला कर देता. बच्चे को माता-पिता भी लगातार शांत रहने और न भागने के लिए कहते रहे जिससे उसका हौंसला नहीं टूटा. इटली के अखबार लादियेग ने अलेसांद्रो ने इस बारे में बात भी की है. लेसंद्रो ने बताया कि वह काफी घबरा गया था लेकिन उस दौरान उसने सिर्फ अपने माता-पिता के दिए निर्देशों का पालन किया और भागा नहीं. भालू ने भी अलसांद्रो का पीछा नहीं किया और वहीं से वापस लौट गया.
 

यह भी पढ़ें:

खगोलविदों ने बनाई खास गाइडबुक, बाह्यग्रहों पर जीवन तलाशने में करेगी मदद

9 साल बाद अमेरिकी धरती से ISS जा रहे हैं Astronauts, इन वजहों से भी है यह खास

एक अणु बन गया क्वाटंम इंजन और क्वांटम फ्रिज में, जानिए क्यों अहम है यह अध्ययन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज