बेलारूस: जब सैकड़ों पुलिसवालों के सामने दीवार बना अकेला प्रदर्शनकारी, देखें VIDEO

बेलारूस: जब सैकड़ों पुलिसवालों के सामने दीवार बना अकेला प्रदर्शनकारी, देखें VIDEO
बेलारूस में प्रदर्शन उग्र हुआ

बेलारूस (Belarus) में जनता राष्ट्रपति अलेक्सांद्र लुकाशेंको (Belarus President Alexander Lukashenko) के खिलाफ सड़कों पर उतर आई है. लुकाशेंको ने धमकी दी है कि आधिकारिक चुनावी नतीजों को चुनौती दे रहे प्रदर्शनकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 11:55 AM IST
  • Share this:
मिंस्क. राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही बेलारूस (Belarus) में जनता राष्ट्रपति अलेक्सांद्र लुकाशेंको (Belarus President Alexander Lukashenko) के खिलाफ सड़कों पर उतर आई है. लुकाशेंको ने धमकी दी है कि आधिकारिक चुनावी नतीजों को चुनौती दे रहे प्रदर्शनकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. हालांकि बेलारूस से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो चीन के थियेनमान स्क्वायर की याद दिलाती है. राजधानी मिंस्क में प्रदर्शनकारियों के प्रति सख्ती बरत रहे सुरक्षाकर्मियों की गाड़ियों के सामने यहां एक अकेला प्रदर्शनकारी दीवार बनकर खड़ा हो गया.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में नज़र आ रहा है कि पुलिस की गाड़ियां मिंस्क की एक सड़क पर कतार बनाकर आगे बढ़ रही होती हैं तभी एक अकेला प्रदर्शनकारी उनके सामने आकर खड़ा हो जाता है. पुलिस इस प्रदर्शनकारी पर वाटर कैनन का इस्तेमाल भी करती है लेकिन वह नहीं हटता. हालांकि इसके बाद गाड़ियां कतार में आगे बढ़तीं हैं और कुछ पुलिसवाले उतरकर इस शख्स को अरेस्ट कर लेते हैं. बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्सांद्र लुकाशेंको को यूरोप के आखिरी डिक्टेटर के तौर पर जाना जाता है और वे बीते 26 साल से सत्ता में हैं.


प्रदर्शनकारियों को दी धमकीअलेक्सांद्र लुकाशेंको ने सोमवार को चेतावनी दी कि उनके 26 साल के शासन को बढ़ाने वाले आधिकारिक चुनाव परिणामों को चुनौती देने वाले विपक्षी प्रदर्शनकारियों को कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा. लुकाशेंको ने साथ ही विपक्षी प्रदर्शनकारियों पर आरोप लगाया कि वे अपने विदेशी आकाओं के इशारे पर काम कर रहे हैं. रविवार के मतदान के कुछ ही घंटों बाद तब सैकड़ों लोग घायल हो गए और हजारों को हिरासत में ले लिया गया, जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े और उनके खिलाफ बेरहमी से कार्रवाई की. प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर युवा हैं. मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा कि एक व्यक्ति की पुलिस के ट्रक से कुचलकर मौत हो गई. हालांकि, अधिकारियों ने इससे इनकार किया है.श्वेतलाना त्सिकानुसकाया की हार से युवा नाराज़चुनाव अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि लुकाशेंको छठी बार निर्वाचित हुए और उन्हें 80 प्रतिशत से अधिक वोट मिले. वहीं, विपक्षी उम्मीदवार श्वेतलाना त्सिकानुसकाया को 9.9 प्रतिशत मत मिले. त्सिकानुसकाया ने आधिकारिक परिणामों को एक दिखावा करार देते हुए खारिज कर दिया और उसे चुनौती देने का संकल्प जताया. विपक्ष दिन में बाद में राजधानी, मिंस्क और अन्य शहरों में नए विरोध प्रदर्शनों की योजना बना रहा है. हालांकि, लुकाशेंको ने चेतावनी दी कि वह विपक्षी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए फिर से बल प्रयोग करने में संकोच नहीं करेंगे. उन्होंने तर्क दिया कि प्रदर्शनकारियों ने 25 पुलिस अधिकारियों को घायल कर दिया और देश के कई शहरों में सरकारी इमारतों को नियंत्रण में लेने का प्रयास किया जिसके बाद पुलिस ने उचित कार्रवाई की. पैंसठ वर्षीय लुकाशेंको ने दावा किया कि विपक्ष पोलैंड और चेक गणराज्य से निर्देशित हो रहा है तथा यूक्रेन और रूस में कुछ समूह भी विरोध प्रदर्शन के पीछे हो सकते हैं. गृह मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि विरोध प्रदर्शनों के दौरान किसी की मौत नहीं हुई. उसने प्रदर्शनों के दौरान मौत होने की खबर को 'पूर्ण रूप से फर्जी' बताया. अधिकारियों के मुताबिक, विरोध प्रदर्शन के दौरान 89 लोग घायल हुए, जिनमें 39 कानून लागू करने वाले अधिकारी शामिल हैं. साथ ही करीब 3,000 लोगों को हिरासत में लिया गया. इनमें से 1000 लोगों को मिंस्क में हिरासत में लिया गया.



छठी बार निर्वाचित हुए लुकाशेंको
बेलारूस में चुनाव अधिकारियों ने कहा है कि अलेक्सांद्र लुकाशेंको लगातार छठी बार राष्ट्रपति निर्वाचित हुए हैं. रविवार को हुए चुनाव के शुरूआती नतीजों के मुताबिक उन्हें 80 प्रतिशत से अधिक वोट मिले. उल्लेखनीय है कि इस चुनाव के कारण पूरे बेलारूस में व्यापक प्रदर्शन हुए और प्रदर्शनकारियों पर हिंसक कार्रवाई की गई. लुकाशेंको बेलारूस के निरकुंश शासक हैं. देश के केंद्रीय चुनाव आयोग ने मतपत्रों की गिनती होने की सोमवार को घोषणा की. उसने यह भी कहा कि लुकाशेंको को 80.23 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए, जबकि उनकी मुख्य विपक्षी उम्मीदवार स्वेतलाना त्सिखानौकाया को सिर्फ 9.9 प्रतिशत वोट मिले. चुनाव परिणामों की इस घोषणा के बाद तनाव बढ़ सकता है क्योंकि विपक्ष के समर्थकों का मानना है कि चुनाव में धांधली हुई है. रविवार रात हजारों की संख्या में लोगों ने बेलारूस की सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज