अपना शहर चुनें

States

सलाम! 99 साल के पूर्व फौजी ने कोरोना से लड़ रहे डॉक्टर्स के लिए जुटाए 20 करोड़ रुपए

99 साल के टॉम मूर ने NHS की मदद के लिए शुरू किया अभियान
99 साल के टॉम मूर ने NHS की मदद के लिए शुरू किया अभियान

99 साल के कैप्टन टॉम मूर (Tom Moore) आने वाली 30 अप्रैल को पूरे 100 साल के हो जाएंगे. कैप्टन मूर ने ब्रिटेन (Britain) की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ के लिए चंदा जुटाने का अभियान शुरू किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2020, 9:37 AM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन (Britain) कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण की मर से बुरी तरह जूझ रहा है, यहां अभी तक संक्रमण के करीब 94000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. ब्रिटेन (UK) में 12000 से ज्यादा लोग इस संक्रमण के चलते अपनी जन गंवा चुके हैं. देश को ऐसी मुश्किल घड़ी में देखकर 99 साल के एक पूर्व फौजी और ब्रिटेन के लिए जंग लड़ चुके कैप्टन टॉम मूर (Tom Moore) सामने आए हैं. ब्रिटेन में PPE की कमी से जूझ रहे डॉक्टर्स और अन्य मेडिकल स्टाफ की मदद के लिए कैप्टन मूर ने चंदा जुटाना शुरू किया है.

99 साल के कैप्टन टॉम मूर आने वाली 30 अप्रैल को पूरे 100 साल के हो जाएंगे. कैप्टन मूर ने ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ के लिए चंदा जुटाने का अभियान शुरू किया है. मूर का ये अभियान काफी सफल नज़र आ रहा है और उन्होंने अभी तक 20 करोड़ रुपए (2.5 मिलियन डॉलर) जुटा लिए हैं. कैप्टन मूर ने चैलेन्ज लिया है कि वे अपने 100वें जन्मदिन से पहले अपने गार्डन के पूरे 100 चक्कर लगाएंगे.

 





कूल्हे की हड्डी टूटी है हौसला नहीं
बता दने कि कैप्टन मूर अब चल नहीं पाते हैं और उन्हें खड़े होने के लिए वॉकिंग फ्रेम का सहारा लेना पड़ता है. मूर की कूल्हे की हड्डी टूटी हुई है और उनके लिए चल पाना काफी मुश्किल है. हालांकि मूर का कहता है कि वो फौजी रहे हैं और ऐसे बुरे समय में NHS की मदद के लिए गार्डन के 100 चक्कर काटने के लिए तैयार हैं. बता दें कि ब्रिटेन की NHS काफी दबाव में है लेकिन देश भर में उनकी काफी तारीफ हो रही है. कोरोना संक्रमण की चपेट में आए और फिर ठीक हुए पीएम बोरिस जॉनसन ने भी NHS की तारीफ करते हुए कहा कि ये न होते तो मैं नहीं बच पाता.

कैप्टन मूर बताते हैं कि उन्होंने ये कैंपेन सिर्फ 5 करोड़ रुपए का चंदा जुटाने के लिए चलाया था लेकिन लोग उन्हें काफी प्यार दे रहे हैं. मूर ने ब्रिटेन के लिए द्वितीय विश्व युद्ध में भी हिस्सा लिया था. मूर कहते हैं कि मैं हमेशा चीजों को इसी तरह देखता हूं कि आने वाला दिन पिछले से बेहतर होगा.

 

ये भी पढ़ें
'पैदा तो हिंदू हुआ पर मरूंगा हिंदू नहीं' कहने वाले अंबेडकर ने आखिर क्यों अपनाया था बौद्ध धर्म
जानें मोदी के ऐप आरोग्य सेतु के बारे में, जिसकी तारीफ विश्व बैंक ने भी की है
देश को रेड, ऑरेंज, ग्रीन जोन में बांटने से क्‍या होगा फायदा, किस जोन में कितनी मिलेगी छूट
कोरोना से लड़ाई में भारत के लिए अगले कुछ हफ्ते क्यों अहम हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज