लाइव टीवी

पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों का खुलासा करने वाली गुलालाई इस्माइल के खिलाफ वारंट जारी

News18Hindi
Updated: October 3, 2019, 10:21 AM IST
पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों का खुलासा करने वाली गुलालाई इस्माइल के खिलाफ वारंट जारी
पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों का खुलासा करने वाली गुलालाई के खिलाफ वारंट जारी

पाकिस्तान कोर्ट (Pakistan court) के इस आदेश के बाद गुलालाई (Gulalai Ismail) ने कहा कि देश की खुफिया एजेंसी (intelligence agency) आईएसआई (ISI) को खुश करने के लिए कोर्ट इस तरह का वारंट (warrant) जारी कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2019, 10:21 AM IST
  • Share this:
पाकिस्तानी सेना (Pakistan Army) के खिलाफ आवाज उठाने वालीं पख्तून मानवाधिकार कार्यकर्ता गुलालाई इस्माइल (Gulalai Ismail) की परेशानी बढ़ती दिख रही है. पाकिस्तान में सरकारी एजेंसियों के उत्पीड़न (Harassment) से परेशान होकर अमेरिका (America) पलायन करने वालीं गुलालाई इस्माइल के खिलाफ अब गैर जमानती वारंट (warrant) जारी किया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तान की अदालत ने गुलालाई के खिलाफ राष्ट्रीय संस्थाओं को बदनाम करने के मामले में वारंट जारी किया है. कोर्ट के इस आदेश के बाद गुलालाई ने कहा कि देश की खुफिया एजेंसी (intelligence agency) आईएसआई (ISI) को खुश करने के लिए कोर्ट इस तरह का वारंट जारी कर रही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि अगर वह 21 अक्टूबर तक कोर्ट में पेश नहीं होती हैं तो उन्हें भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. कोर्ट के ओर से गुलालाई के खिलाफ वारंट जारी किए जाने की पाकिस्तानी पत्रकारों ने सेना की ओर से उठाया गया कदम बताया है. पाकिस्तान के पत्रकारों ने कहा है कि यह आदेश कोर्ट ने जारी नहीं किया है. पाकिस्तान की सेना जो चाहती है वहीं करती है. पाकिस्तान में न्याय व्यवसथा कितनी स्वतंत्र है ये सभी जानते हैं.

Pakistan, Gulalai Ismail, America, Harassment, court, warrant intelligence agency, ISI
पाकिस्‍तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता गुलालाई इस्‍माइल, फाइल फोटो


गौरलतब है कि गुलालाई इस्माइल ने कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान सेना के अत्याचार का खुलासा किया था. गुलालाई इस्माइल तब से ही पाकिस्तान सेना के अधिकारियों के निशाने पर थीं. अल जज़ीरा की रिपोर्ट के अनुसार, गुलालाई इस्‍माइल किसी तरह से पाक अधिकारियों से बचकर अमेरिका पहुंची. यहां पहुंचकर उन्‍होंने पाकिस्‍तानी सेना द्वारा महिलाओं पर किए जा रहे अत्‍याचार को उजागर किया. गुलालाई इस्‍माइल ने जब पाकिस्‍तान में महिलाओं और बच्‍चों पर हो रहे अत्‍याचार को उजागर करने की कोशिश की, तो सरकार ने उनपर जबरन देशद्रोह का आरोप मढ़ दिया.

Pakistan, Gulalai Ismail, America, Harassment, court, warrant intelligence agency, ISI
33 वर्षीय इस्‍माइल अब अपनी बहन के साथ ब्रुकलिन में रह रही हैं


अमेरिकी सरकार से शरण मांग चुकी हैं इस्माइल
रिपोर्ट के अनुसार, 33 वर्षीय इस्‍माइल अब अपनी बहन के साथ ब्रुकलिन में रह रही हैं. इस्‍माइल ने अमेरिकी सरकार से शरण की मांग भी की है. इस्‍माइल ने कहा कि वह पाकिस्‍तान से भागने की कहानी विस्‍तार से नहीं बता सकती हैं, क्‍योंकि ऐसा करने से कई लोगों की जान खतरे में पड़ जाएगी. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा, 'मुझपर लगाए गए सभी आरोप गलत हैं. मैंने पाकिस्‍तानी सेना द्वारा महिलाओं पर किए जा रहे अत्‍याचार के खिलाफ आवाज उठाने की कोशिश की है. इसलिए वहां की सरकार ने मुझे फंसाया.इसे भी पढ़ें :-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 3, 2019, 10:21 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर