व्हाइट हाउस में है भूतों का बसेरा! कैमरे में कैद हुई तस्वीर

व्हाइट हाउस में काम करने वाले कर्मचारियों को अक्सर लिंकन की आत्मा के होने का एहसास होता रहता है.

News18Hindi
Updated: January 14, 2019, 10:26 AM IST
व्हाइट हाउस में है भूतों का बसेरा! कैमरे में कैद हुई तस्वीर
व्हाइट हाउस में काम करने वाले कर्मचारियों को अक्सर लिंकन की आत्मा के होने का एहसास होता रहता है.
News18Hindi
Updated: January 14, 2019, 10:26 AM IST
व्हाइट हाउस के बारे में तो सुना ही होगा. ये वही जगह है जहां दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्क अमेरिका के राष्ट्रपति रहते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में सबसे ज्यादा सुरक्षित जगह माना जाने वाला  व्हाइट हाउस 'हॉन्टेड' है. जी हां. इस हाउस में सिर्फ अमेरिकी राष्ट्रपति ही नहीं बल्कि एक अदृश्य ताकत भी रहती है. ऐसा कहा जाता है कि वाइट हॉउस में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का भूत रहता है.

 

व्हाइट हाउस में दिखता है लिंकन का भूत

व्हाइट हाउस में काम करने वाले कर्मचारियों को अक्सर लिंकन की आत्मा के होने का एहसास होता रहता है. ऐसा कहा भी जाता है कि पूर्व राष्ट्रपति लिंकन के कमरे से आज भी किसी के चलने और बोलने की आवाज़ें सुनाई देती हैं. कई बार तो लोगों को लिंकन का मुस्कुराता हुआ भूत भी नज़र आता है, जो कुछ ही पलों में गायब हो जाता है.

अब्राहम लिंकन के भूत को सबसे पहली बार कैल्विन कूलिज की पत्नी ने देखा था.उनका कहना था कि उन्होंने लिंकन को ऑफिस के खिड़की से झांकते हुए देखा. इसके अलावा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल जब पहली बार व्हाइट हॉउस में रुके थे तो उन्हें लिंकन के कमरे के अंदर से आग जलती और किसी की परछाई दिखाई दी. इसके बाद उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति को फायरप्लेस के पास सिगार पीते हुए भी देखा जो कुछ ही पलों में गायब हो गया.

 

जब कैमरे में कैद हुआ था व्हाइट हाउस का भूत
Loading...

1950 में व्हाइट हाउस के पुननिर्माण के दौरान एक तस्वीर ली गई थी. इस तस्वीर में कुछ लोग दाईं तरफ खड़े दिखाए दे रहे हैं, वहीं उनके बाईं तरफ एक धुंधली आकृति खड़ी दिखाई दे रही है.



ऐसा माना जाता है कि इस तस्वीर में कोई और नहीं बल्कि पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का भूत है. तस्वीर में दिखाई देने वाली आकृति लिंकन के कमरे के ठीक नीचे खड़ी दिखाई दे रही है.
(Disclaimer: बता दें कि यहां हमारा मकसद भूतों और उनसे जुड़ी मान्यताओं के बारे में निष्कर्ष निकालने का नहीं है. न ही हम इस कंटेंट की पुष्टि करते हैं.)


Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर