WHO के विशेषज्ञों ने कहा- कोरोना वायरस के स्रोत का अब तक पता नहीं चला

 इस घातक विषाणु के स्रोत का अब तक पता नहीं चला है तथा सवालों के जवाब पाने के लिए आगे और अध्ययन किए जाने की जरूरत है (सांकेतिक तस्वीर)

इस घातक विषाणु के स्रोत का अब तक पता नहीं चला है तथा सवालों के जवाब पाने के लिए आगे और अध्ययन किए जाने की जरूरत है (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Origin: टीम ने 14 जनवरी से 10 फरवरी तक चीन के वुहान (Wuhan) शहर का दौरा किया था जहां दिसंबर 2019 में वायरस का सबसे पहले पता चला था.

  • Share this:
बीजिंग/जिनेवा. कोरोना वायरस की उत्पत्ति (Coronavirus Origin) की जांच करने वाले विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के विशेषज्ञों की टीम ने कहा है कि इस घातक विषाणु के स्रोत का अब तक पता नहीं चला है तथा सवालों के जवाब पाने के लिए आगे और अध्ययन किए जाने की जरूरत है. अंतरराष्ट्रीय टीम की रिपोर्ट मंगलवार को प्रकाशित हुई. इस टीम ने 14 जनवरी से 10 फरवरी तक चीन के वुहान (Wuhan) शहर का दौरा किया था जहां दिसंबर 2019 में वायरस का सबसे पहले पता चला था.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रोस अधानोम गेब्रेयेसस ने कहा, ‘‘जहां तक विश्व स्वास्थ्य संगठन का संबंध है, सभी विचार मेज पर हैं. रिपोर्ट बहुत महत्वपूर्ण शुरुआत है. हमें अभी वायरस के स्रोत का पता नहीं चला है. हमें विज्ञान का अनुसरण जारी रखना चाहिए तथा कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़नी चाहिए.’’

Youtube Video


वायरस को लेकर ट्रंप के आरोप की जांच किए जाने की जरूरत
मीडिया प्रतिष्ठानों को मिली डब्ल्यूएचओ की प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘यह (रिपोर्ट) सवाल उठाते हुए हमारी समझ को महत्वपूर्ण रूप से आगे बढ़ाती है जिसका समाधान आगे के अध्ययनों से होगा.’’

टेड्रोस ने यह भी कहा कि टीम इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से वायरस के लीक होने, जैसा कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आरोप लगाया था, की बात ‘‘कम संभावना वाला अनुमान’’ है, लेकिन इसकी आगे जांच किए जाने की जरूरत है.

(Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज