WHO ने कहा कोरोना की 6 वैक्सीन तीसरे फेज में, कामयाबी की गारंटी फिलहाल नहीं

WHO ने कहा कोरोना की 6 वैक्सीन तीसरे फेज में, कामयाबी की गारंटी फिलहाल नहीं
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि दुनिया भर में 6 वैक्सीन का काम तीसरे पेज में पहुंच गया है. (फोटो- AP)

Corona Vaccine: ऑक्सफोर्ड युनिवर्सिटी की वैक्सीन से पूरी दुनिया को काफी ज्यादा उम्मीदें है. इसके क्लीनिकल ट्रायल अलग-अलग देशों में चल रहे हैं. भारत का सीरम इंस्टिट्यूट भी ऑक्सफोर्ड के इस प्रोजेक्ट में पार्टनर है

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 7, 2020, 7:53 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. कोरोना वायरस (Coronavirus) ने दुनियाभर में कोहराम मचा रखा है. अब तक इस खतरनाक वायरस से 7 लाख से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है, जबकि पूरी दुनिया में एक करोड़ 80 लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं. ऐसे में हर किसी की निगाहें कोरोना के वैक्सीन (Corona Vaccine) पर टिकी है. इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि दुनियाभर में 6 वैक्सीन का काम तीसरे पेज में पहुंच गया है. लेकिन WHO का ये भी कहना है कि फिलहाल इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि ये सारी वैक्सीन कामयाब होगी.

आइए एक नजर डालते हैं कि फिलहाल दुनिया में कहां-कहां और कितने वैक्सीन पर काम चल रहा है. साथ ही WHO ने और क्या कुछ कहा है...
WHO का कहना है कि इस वक्त दुनिया भर में 6 वैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल चल रहे है. इसमें से 3 वैक्सीन चीन के हैं.
दुनिया भर में फिलहाल 165 वैक्सीन पर काम चल रहा है. जिसके अलग-अलग फेज के ट्रायल चल रहे हैं. WHo के मुताबिक इस वक्त 26 वैक्सीन ऐसे हैं जिसके क्लीनिकल ट्रायल चल रहे हैं.
WHo के मुताबिक फेज 3 में बड़े संख्या में लोगों पर ट्रायल किए जाते हैं. यहां ये पता लगाया जाता है कि आखिर ये वैक्सीन लंबे समय तक और ज्यादा से ज्यादा लोगों पर काम कर रहा है या नहीं. फिलहाल इस बात की गारंटी नहीं है कि तीसरे फेज में ये कामयाब होंगे ही.
चीन में जिन तीन वैक्सीन का काम तीसरे चरण में पहुंच गया है वो है- सिनोवैक, वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट, सिनोफैरम/बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट
अमेरिका की मोडेरना कंपनी ने कोरोना वैक्सीन पर सबसे पहले काम शुरू किया. अब तक की रिपोर्ट के मुताबिक पहले दो फेज के क्लीनिकल ट्रायल से अच्छे नतीजे सामने आए हैं. इस वैक्सीन का मुश्किल और तीसरा पड़ाव 27 जुलाई से शुरू हो गया है.
ऑक्सफोर्ड युनिवर्सिटी की वैक्सीन से पूरी दुनिया को काफी ज्यादा उम्मीदें है. इसके क्लीनिकल ट्रायल अलग-अलग देशों में चल रहे हैं. भारत का सीरम इंस्टिट्यूट भी ऑक्सफोर्ड के इस प्रोजेक्ट में पार्टनर है
भारत की दो वैक्सीन-भारत बायोटेक और जायडस कैडिला ने ह्यूमन ट्रायल की शुरुआत कर दी है. भारत बायोटेक कंपनी ने इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरस और जीका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज