लाइव टीवी

जर्मनी में पाकिस्‍तानी ट्रक आर्ट साइकिल क्‍यों है सुर्खियों में?

News18.com
Updated: January 16, 2020, 12:20 PM IST
जर्मनी में पाकिस्‍तानी ट्रक आर्ट साइकिल क्‍यों है सुर्खियों में?
पाकिस्‍तानी ट्रक आर्ट से सजी साइकिल इस समय अपनी खूबसूरती की वजह से सुर्खियां बटोर रही है. फोटो साभार/ ट्विटर

वह बाल्टिक द्वीप (Baltic Islands) पर मौज-मस्‍ती के दौरान पाकिस्‍तान से लाई हुई ट्रक आर्ट से सजी साइकिल भी अपने साथ ले गए थे, जो द्वीप पर दिलचस्‍पी का सामान बन गई. देखने वाले इस बात पर यकीन ही नहीं कर पा रहे थे कि उसे हाथों से पेंट किया गया है.

  • News18.com
  • Last Updated: January 16, 2020, 12:20 PM IST
  • Share this:
कला किसी भी रूप में हो अपनी ओर आकर्षित किए‍ बिना नहीं रहती. यही वजह है कि एक साधारण-सी साइकिल अपनी कला की वजह से देश से लेकर विदेश तक चर्चा की वजह बनी हुई है. यहां बात हो रही है ट्रक आर्ट से सजी एक साइकिल की.
दरअसल, जर्मनी (Germany) के पूर्व राजदूत मार्टिन कोबलर (Martin Kobler) पाकिस्‍तान में अपने कार्यकाल के दौरान वहां की कला के कद्रदान रहे हैं. यही वजह है कि जब वह वहां से गए तो पाकिस्‍तानी ट्रक आर्ट से सजी साइकिल अपने साथ यूरोप (Europe) ले गए. इसके बाद उस सा‍इकिल को लेकर लोगों का जो रुख था उसे उन्‍होंने ट्विटर पर बयान किया है.

उन्‍होंने बताया कि वह बाल्टिक द्वीप (Baltic Islands) पर मौज-मस्‍ती के दौरान पाकिस्‍तान से लाई हुई ट्रक आर्ट से सजी साइकिल भी अपने साथ ले गए थे, जो द्वीप पर दिलचस्‍पी का सामान बन गई. देखने वाले इस बात पर यकीन ही नहीं कर पा रहे थे कि उसे हाथों से पेंट किया गया है.

अपने ट्विटर अकाउंट पर उन्‍होंने उस साइकिल (Bicycle) को अपने हाथों से सजाने वाले पाकिस्‍तानी कलाकार हाजी परवेज का जिक्र करते हुए ट्विटर यूजर से कहा कि वह उनकी कला को देखें. उन्‍होंने इसे भुलाई न जा सकने वाली याद कहा.

पाकिस्‍तान (Pakistan) में अपने कार्यकाल के दौरान पहले भी कोबलर सोशल मीडिया पर आर्ट समेत पाकिस्‍तान के अन्‍य अहम पहलुओं को भी शेयर करते रहे हैं. सोशल साइट यूजर उनके इस कलाप्रेम की भरपूर सराहना कर रहे हैं.

 

ये भी पढ़ें-संयुक्त राष्ट्र की चेतावनी- पिछला दशक सर्वाधिक गर्म, आने वाला दशक और गर्म होगा

 

हैरी-मेगन के शाही परिवार छोड़ने के बाद 'मेग्जिट' नाम से बिक रहे ये प्रोडक्‍ट्स

 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 12:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर