लाइव टीवी

CAB 2019 के खिलाफ प्रदर्शनों के कारण बांग्‍लादेश के विदेश ने रद्द किया भारत दौरा

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 4:17 PM IST
CAB 2019 के खिलाफ प्रदर्शनों के कारण बांग्‍लादेश के विदेश ने रद्द किया भारत दौरा
बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ पीएम मोदी

राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल (Citizen Amedment Bill) पास होने के बाद भारत और बांग्लादेश के बीच दोस्ती में खटास आ गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 4:17 PM IST
  • Share this:
(महासिद्दकी)

नई दिल्ली. भारत और बांग्लादेश की दोस्ती जग जाहिर है. पिछले महीने बांग्लादेश (Bangladesh) की प्रधानमंत्री शेख हसीना (Sheikh Hasina) ऐतिहासिक पिंक बॉल टेस्ट देखने के लिए कोलकाता आईं थी. उनके भारत आने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था, 'ये सुनहरा अवसर है कि इस ऐतिहासिक डे-नाइट मैच का उद्घाटन भारत के एक अच्छे दोस्त द्वारा किया जा रहा है.' अब नारिकता संशोधन विधेयक 2019 के खिलाफ पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में हो रहे प्रदर्शन के कारण बांग्‍लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा रद्द कर दिया है.

संयुक्त राष्ट्र मोदी-शेख हसीना की मुलाकात
सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के दौरान न्यूयॉर्क में भी शेख हसीना और पीएम मोदी की मुलाकात हुई थी. यहां दोनों नेताओं ने आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस के संकल्प को दोहराया. बैठक के दौरान बांग्लादेशी प्रधानमंत्री ने पीएम मोदी को अगले साल अपने देश आने का न्योता भी दिया. शेख हसीना ने पीएम नरेंद्र मोदी को बंगबंधु शेखमुजीबुर्रहमान के जन्मशती पर बांग्लादेश आने को कहा.

दिल्ली में मुलाकात
10 दिन के बाद यानी 5 अक्टूबर को इन दोनों नेताओं की मुलाकात फिर दिल्ली में हुई. यहां भी दोनों देशों के बीच अच्छी और सकारात्मक बातचीत हुई. इसमें कोई दो राय नहीं है कि शेख हसीना के प्रधानमंत्री बनने के बाद से भारत और बांग्लादेश के बीच दोस्ती गहरी हुई है. लेकिन, समय-समय पर दोनों देशों ने कई मुद्दों पर सवाल खड़ा किए हैं.

NRC का मुद्दान्यूयॉर्क के बाद शेख हसीना ने दिल्ली में भी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का मुद्दा उठाया. भारत आने के बाद शेख हसीना ने कहा कि NRC से बांग्लादेश को कोई दिक्कत नहीं है. इस बारे में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) अधिवेशन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले ही बात हो चुकी है. जब शेख हसीना से पूछा गया कि क्या वो पीएम मोदी के आश्वासन से संतुष्ट हैं, तो उन्होंने कहा, 'बेशक. मुझे एनआरसी से कोई समस्या होती नहीं दिख रही है. बांग्लादेश को भी इससे चिंतित नहीं होना चाहिए, क्योंकि पीएम मोदी से मेरी बात हो चुकी है. सब ठीक है.'

बंगाल में शाह की रैली
इस साल बंगाल में एक रैली में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था, 'देश में NRC लाने से पहले CAB को राज्यसभा में पास कराया जाएगा. हम लोग नागरिकता का अधिकार सभी शरणार्थियों को देंगे, जिसमें मतुआ समुदाय भी शामिल है. इसके अलावा हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई को भी नागरिकता दी जाएगी. ' उन्होंने यहा मुसलमानों का नाम नहीं लिया.

पूर्व विदेश सचिव की वॉर्निंग!
हाल में आईके गुजराल मेमोरियल लेक्चर में पूर्व विदेश सचिव और एनएसए शिवशंकर मेनन ने कहा था, 'बांग्लादेश भारत की सुरक्षा में सकारात्मक योगदान दे रहा है. अगर आप (गैरकानूनी) आप्रवासियों को 'दीमक' कहना शुरू कर देते हैं या बहुत नकारात्मक रवैया दिखाना शुरू कर देते हैं, तो आप एक ऐसे रिश्ते को जन्म देने का जोखिम उठाते हैं जो मायने रखता है.'

विदेश मंत्री का दौरा रद्द
नागरिकता संशोधन बिल पर असम में हो रहे उग्र विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल ने अपना तीन दिवसीय भारत दौरा रद्द कर दिया है. अब्दुल 12 से 14 दिसंबर तक भारत यात्रा पर थे.



ये भी पढ़ें:

हैदराबाद गैंगरेप: 4 आरोपियों के एनकाउंटर मामले की जांच 3 सदस्यीय आयोग करेगा

F-16 का इस्तेमाल करने पर अमेरिका ने पाकिस्तान को लगाई थी फटकार : रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 3:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर