क्या ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने में सबसे बड़ा रोड़ा है कोरोना वायरस

क्या ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने में सबसे बड़ा रोड़ा है कोरोना वायरस
कोरोना वायरस अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित कर सकता है.

जानकार मान रहे हैं कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से अमेरिका (America) को भीषण आर्थिक संकट (financial crisis) का सामना करना पड़ सकता है. सवाल उठता है कि ऐसे माहौल में क्या डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) पर अमेरिकी जनता दोबारा से भरोसा जता पाएगी?

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 10:33 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के सामने सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा आन पड़ी है. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव (President Election) होने जा रहे हैं और पूरा अमेरिका कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के साए में जी रहा है. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए अमेरिका ने यूरोप पर ट्रैवल बैन लगा दिया है. अमेरिका लौटने वाले अमेरिकी नागरिकों को भी कड़ी स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ रहा है. वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए दफ्तरों और स्कूलों को बंद कर दिया गया है.

कोरोना वायरस की वजह से शेयर मार्केट की हालत खस्ता है. तेल की गिरती कीमतों की वजह से अमेरिका की इकोनॉमी पर बुरा असर पड़ने वाला है. कोरोना वायरस की वजह से अमेरिका के उद्योग धंधों पर ताला लटक गया है. कोरोना वायरस की वजह से अमेरिका को भीषण आर्थिक संकट का सामना करना पड़ सकता है. सवाल उठता है कि ऐसे माहौल में क्या डोनाल्ड ट्रंप पर अमेरिकी जनता दोबारा से भरोसा जता पाएगी?

डोनाल्ड ट्रंप के लिए मुश्किल वक्त शुरू होता है अब...
टाइम मैगजीन से बात करते हुए रिपब्लिकन पार्टी को चंदा देने वाले डान एबरहार्ट कहते हैं कि कोराना वायरस की वजह से अमेरिका जिस मुश्किल हालात से गुजर रहा है, उसमें डोनाल्ड ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने की संभावना पर सवाल उठने लगे हैं. शायद उन्हें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़े. एबरहार्ट का कहना है कि 2008 में इसी तरह के हालात थे. अमेरिका स्लो डाउन से गुजर रहा था. उस बुरे आर्थिक माहौल ने अमेरिकी जनता का सत्ता में बैठे रिपब्लिकन से मोह भंग कर दिया था. अमेरिकी जनता ने डेमोक्रेट्स को बहुमत सौंपा और बराक ओबामा राष्ट्रपति चुने गए थे. हो सकता है कि 2008 की राजनीतिक घटना एकबार फिर से दोहराई जाए.
जानकारों के मुताबिक रिपब्लिकन को आने वाले खतरे का अहसास है. उन्हें लगता है कि प्रशासनिक कार्रवाई से लोग खुश नहीं हैं. डोनाल्ड ट्रंप के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने वायरस को लेकर लापरवाही वाला रवैया अपनाया. कई मौकों पर उन्होंने मीडिया को आड़े हाथों लेते हुए वायरस संक्रमण की बात को बढ़ाचढ़ा कर पेश करने के आरोप लगाए हैं. जबकि अमेरिका में कोरोना वायरस ने तेजी से पांव पसारे हैं.



विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर चुका है. अमेरिका में संक्रमण के 1,281 मामले दर्ज किए गए हैं. वायरस की चपेट में आकर 37 लोगों की मौत हो चुकी है. कहा जा रहा है कि अमेरिका की पब्लिक हेल्थ सर्विस ने वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने को लेकर देरी से कदम उठाए. ट्रंप प्रशासन ने वायरस से संक्रमण को कम आंकने की भूल की. हालत ये थी कि अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस की तरफ से कहा गया कि उनके पास कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच करने वाले किट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं हैं.

एक सर्वे में 46 फीसदी अमेरिकियों ने जताई सरकार से नाराजगी
अमेरिका की राजनीति पर नजर रखने वाले बता रहे हैं कि अगर ट्रंप प्रशासन कोरोना वायरस से निपटने में अक्षम साबित होती है तो राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों पर इसका असर पड़ सकता है. इसका सीधा मतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने की राह में ये सबसे बड़ा रोड़ा साबित हो सकता है.

अमेरिकी चुनावों के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ये बताना होगा कि उन्होंने वायरस से निपटने के लिए क्या-क्या किया. अमेरिका में कोरोना वायरस को लेकर खूब चर्चा हो रही है. सोमवार को अमेरिका में पब्लिक ओपिनियन स्ट्रैटजी पोल नाम से एक सर्वे प्रकाशित किया गया है. इसमें बताया गया है कि पिछले 10 वर्षों में कोरोना वायरस सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरने वाली टॉप न्यूज रही है.

इस सर्वे में अमेरिकी जनता से सवाल पूछा गया था कि क्या वो मानते हैं कि अमेरिका कोरोना वायरस से निपटने में सक्षम है? इस सवाल के जवाब में 49 फीसदी अमेरिकियों ने कहा कि उनका देश कोरोना से निपटने में सक्षम है, जबकि 46 फीसदी लोगों का कहना था कि इससे निपटने के लिए देश तैयार नहीं है. ऐसे माहौल में अगर कोरोना वायरस चुनावी मुद्दा बन जाता है तो फिर डोनाल्ड ट्रंप के लिए मुश्किल हो सकती है.

ये भी पढ़ें:

कोरोना वायरस पर कॉन्फ्रेंस कोरोना वायरस की वजह से ही कैंसिल

फोन कॉलर से बोले प्रिंस हैरी- ट्रंप के हाथ खून से सने, बीमार आदमी दुनिया को बर्बाद कर रहा है

क्राउन प्रिंस सलमान के खिलाफ दावेदारी ठोकने की तैयारी में थे प्रिंस नयेफ, ऐसे खुला राज

क्या 1500 तालिबान लड़ाकों की रिहाई से सुधरेंगे अफगानिस्तान के हालात

ट्रंप नहीं करवाना चाहते कोरोना वायरस की जांच, बोले- टेस्ट करवाने की जरूरत नहीं

Coronavirus: ब्रिटेन की स्वास्थ्य मंत्री को भी हुआ कोरोना, खुद को कमरे में किया बंद

कोरोना वायरस पर मजाक पड़ा भरा, मुसीबत में फंसे भारतीय मूल के दो अफ्रीकी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading