अपना शहर चुनें

States

भारत चीन तनाव पर जो बाइडन की पहली प्रतिक्रिया, कहा- अपने दोस्तों के साथ खड़े हैं हम

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)

India-China Border Dispute: राष्‍ट्रपति बाइडन प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र को सामरिक रूप से अहम मानता है और यहां साझा मूल्‍यों को आगे बढ़ाने के लिए अपने सहयोगियों के साथ रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 12:42 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. भारत-चीन (India-China) के बीच जारी सीमा तनाव पर अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) प्रशासन की पहली प्रतिक्रिया आई है. जिसमें कहा कि हम भारत-चीन सीमा विवाद के शांतिपूर्ण समाधान के लिए सीधी वार्ता का समर्थन करना जारी रखेंगे. बाइडन प्रशासन ने कहा है कि वह हालात पर पैनी नजर बनाए हुए है. उसने पड़ोसी देशों पर धौंस जमाने के चीन के लगातार जारी प्रयासों पर चिंता भी जताई और कहा कि अमेरिका अपने सहयोगियों के साथ हमेशा खड़ा रहेगा.

राष्‍ट्रपति बाइडन प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र को सामरिक रूप से अहम मानता है और यहां साझा मूल्‍यों को आगे बढ़ाने के लिए अपने सहयोगियों के साथ रहेगा. इधर, व्हाइट हाउस की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की प्रवक्ता एमिली जे होर्न ने भी कहा कि भारत और चीन के बीच चल रही बातचीत की हमें जानकारी है और हम दोनों देशों के हालात पर नजर रखे हुए हैं. हम सीमा विवाद के शांतिपूर्ण हल के लिए सीधी बातचीत का समर्थन करते हैं. प्रवक्‍ता, चीन की भारत में अवैध घुसपैठ, क्षेत्रों पर कब्‍जा जमाने और हाल के बयानों को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब दे रही थीं.

चीन से चिंतित है अमेरिका
एमिली‍ ने कहा कि चीन अपने पड़ोसियों पर धौंस जमाने, डराने-धमकाने के लगातार प्रयास कर रहा है, इससे अमेरिका चिंतित है. वहीं, हम हिंद-प्रशांत क्षेत्र में साझा समृद्धि, सुरक्षा और मूल्‍यों की खातिर अपने मित्रों, साझेदारों और सहयोगियों के साथ हैं. यह जो बाइडन प्रशासन की पहली प्रतिक्रिया है. अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति के तौर पर जो बाइडन ने 20 जनवरी को पदभार ग्रहण किया है.
भारत-चीन के बीच सीमा पर हुई झड़पों को लेकर दुनिया भर में व्‍यापक प्रतिक्रिया हुई है. पूर्वी लद्दाख में पिछले साल पांच मई से गतिरोध जारी है. इसके समाधान हेतु दोनों देशों के बीच सैन्‍य एवं राजनयिक स्‍तर पर कई दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन इसका हल अभी तक नहीं निकल पाया है.



जलक्षेत्र को लेकर कई अन्य देशों के साथ भी विवाद
चीन का भारत के साथ ही अन्‍य देशों के साथ भी विवाद जारी है. जल क्षेत्र को लेकर जापान, वियतनाम, मलेशिया, फिलीपीन, ब्रुनेई और ताइवान से उसका विवाद जारी है. चीन के एक कृत्रिम द्वीप पर सैन्‍य ताकत बढ़ा कर पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपना अधिकार जताना शुरू कर दिया है, जबकि अन्‍य देश भी इस पर अपना दावा करते हैं. इसी तरह पूर्वी चीन सागर में उसका जापान से विवाद है. ये वैश्विक व्‍यापार के लिए अहम क्षेत्र है, इसलिए चीन के दावों पर अमेरिका ने इसी क्षेत्र में अपने जंगी जहाज और लड़ाकू विमानों को तैनात कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज