लाइव टीवी

बांग्लादेश के विदेश मंत्री के भारत दौरा रद्द करने के कुछ ही घंटों में गृह मंत्री ने भी रद्द किया अपना दौरा

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 9:20 PM IST
बांग्लादेश के विदेश मंत्री के भारत दौरा रद्द करने के कुछ ही घंटों में गृह मंत्री ने भी रद्द किया अपना दौरा
बांग्लादेशी गृह मंत्री को शुक्रवार को मेघालय (Meghalaya) की यात्रा पर आना था (फाइल फोटो)

बांग्लादेश (Bangladesh) के गृहमंत्री मेघालय (Meghalaya) में फ्रीडम फाइटर्स वेलफेयर ट्रस्ट (Freedom Fighters Welfare Trust) के एक कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 9:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बांग्लादेश (Bangladesh) के विदेश मंत्री (Foreign Minister) के अपना भारत दौरा रद्द करने के कुछ ही घंटो बाद बांग्लादेश के गृह मंत्री असदुज्जमां खान (Bangladesh Home Minister Asaduzzaman Khan) ने भी अपनी पूर्वनिर्धारित भारत यात्रा को रद्द कर दिया है. बांग्लादेशी गृह मंत्री को शुक्रवार को मेघालय (Meghalaya) की यात्रा पर आना था.

बांग्लादेश के गृहमंत्री मेघालय में फ्रीडम फाइटर्स वेलफेयर ट्रस्ट (Freedom Fighters Welfare Trust) के एक कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे. उपलब्ध जानकारी के मुताबिक यह कार्यक्रम बांग्लादेश (Bangladesh) की आजादी के लिए आयोजित किया जाना था. इसे रद्द करने के पीछे आधिकारिक कारण बताया गया है कि अचानक आए कुछ घरेलू कारणों के चलते यह यात्रा रद्द की गई.

विदेश मंत्री ने इससे पहले रद्द कर दिया था तीन दिवसीय दौरा
इससे पहले विवादित नागरिकता (संशोधन) विधेयक (Citizenship Amendment Bill, 2019) संसद में पारित होने के बाद उपजे हालात को देखते हुए बांग्लादेश के विदेश मंत्री (Foreign Minister of Bangladesh) ए के अब्दुल मोमेन ने गुरुवार से शुरू होने वाला अपना भारत का तीन दिवसीय दौरा (Three day visit) रद्द कर दिया था.

राजनयिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. विदेश मंत्रालय (Ministry of Foreign Affairs) द्वारा पहले जारी सूचना के अनुसार ए के अब्दुल मोमेन (AK Abdul Momen) को गुरुवार को शाम पांच बजकर 20 मिनट पर यहां पहुंचना था.

नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने के बाद हालात देख रद्द की यात्रा
सूत्रों ने बताया कि विधेयक (Bill) के पारित होने के बाद के हालात को देखते हुए उन्होंने अपनी यात्रा रद्द की है.नागरिकता (संशोधन) विधेयक बुधवार को राज्यसभा में पारित हो गया. इससे पहले यह विधेयक सोमवार को लोकसभा में पारित हो चुका है. इसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए गैर मुस्लिम शरणार्थी- हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता (Indian Citizenship) देने का प्रावधान है. इसके विरोध स्वरूप असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में प्रदर्शन जारी है.

यह भी पढ़ें: बांग्लादेश के दौरा रद्द करने पर भारत- CAB में सिर्फ मिलिट्री रूल पर उठाए सवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 8:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर