लाइव टीवी

NASA की दो महिला अंतरिक्ष यात्री आज स्‍पेसवॉक कर रचेंगी इतिहास, बदलेंगी बैटरी और डिस्‍चार्ज यूनिट

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 4:06 PM IST
NASA की दो महिला अंतरिक्ष यात्री आज स्‍पेसवॉक कर रचेंगी इतिहास, बदलेंगी बैटरी और डिस्‍चार्ज यूनिट
आज अंतरिक्ष यात्री क्रिस्‍टीना कोच अपनी चौथी और जेसिका मीर पहली स्‍पेसवॉक पर जाएंगी.

नासा (NASA) की अंतरिक्ष यात्री (Astronaut) क्रिस्‍टीना कोच और जेसिका मीर के अलावा इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन (ISS) पर सवार सभी चारों पुरुष अंदर ही रहेंगे. अब तक 15 महिलाएं अंतरिक्ष में चहलकदमी कर चुकी हैं, लेकिन हर बार कोई पुरुष उनके साथ जरूर रहा है. कोच चौथी बार, जबकि मीर पहली बार स्‍पेसवॉक (Spacewalk) करेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 4:06 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिकी स्‍पेस एजेंसी नासा (NASA) की दो अंतरिक्ष यात्री (Astronaut) आज इतिहास रचने की तैयारी में हैं. नासा की अंतरिक्ष यात्री क्रिस्‍टीना कोच (Christina Koch) और जेसिका मीर (Jessica Meir) खराब बैटरी व टूटी हुई डिस्‍चार्ज यूनिट बदलने के लिए आज स्‍पेसवॉक (Spacewalk) करेंगी. नासा के अधिकारी जिम ब्रिडेनस्टाइन ने बताया कि दोनों महिला अंतरिक्ष यात्री छह घंटे तक स्‍पेसवॉक करेंगी. यह अंतरिक्ष यात्री कोच की चौथी और मीर की पहली स्‍पेसवॉक होगी. स्‍पेस एजेंसी ने बताया कि यह महिलाओं द्वारा आयोजित पहली स्‍पेसवॉक होगी.

पहले निर्धारित की गई स्‍पेसवॉक करनी पड़ी थी स्‍थगित
स्‍पेस स्‍टेशन मैनेजर्स ने इससे पहले अपनी तय की गई स्‍पेसवॉक योजना को स्थगित कर दिया था. दरअसल, खराब बैटरी चार्ज-डिस्चार्ज यूनिट की जगह नई बैटरी लगाने के लिए तय समयसीमा में काम खत्‍म नहीं किया जा सका था. नई लिथियम-आयन बैटरी 11 अक्टूबर को अंतरिक्ष केंद्र में स्थापित की जानी थी, लेकिन इसमें असफलता मिली. नासा ने कहा कि इस विफलता से स्टेशन संचालन, चालक दल की सुरक्षा या प्रयोगशाला में चल रहे प्रयोग प्रभावित नहीं हुए हैं. इनमें चंद्रमा और मंगल मिशन की तैयारी शामिल है. बता दें कि कोच और नासा की यह स्पेसवॉक मार्च के लिए निर्धारित की गई थी.

अब तक 15 महिलाएं पुरुषों के साथ कर चुकी हैं स्‍पेसवॉक

अब तक अंतरिक्ष में चहलकदमी कर चुकी 15 महिलाओं के साथ एक पुरुष अंतरिक्ष यात्री भी रहा था. इसलिए जब कोच और मीर इस हफ्ते अंतरिक्ष केंद्र से बाहर निकलेंगी, तो इतिहास बनाएंगी. क्रिस्टीना ने कहा कि अतीत में भी महिलाएं हमेशा टेबल पर नहीं रही हैं. मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम में ऐसे समय में योगदान करना अद्भुत है, जब महिलाओं की ओर से किया जाने वाला हर योगदान स्वीकार किया जा रहा है. उन्‍होंने कहा कि जब किसी अभियान में सभी लोग अपनी-अपनी भूमिका निभाते हैं तो सफलता मिलने की उम्‍मीद बढ़ जाती है.

ये भी पढ़ें:

सेब कारोबारियों को आतंकियों से बचाने के लिए कश्‍मीर प्रशासन ने बनाया ये प्‍लान
Loading...

शेर के बाड़े में कूदे रेहान को बचाने के लिए कई ने जिंदगी दांव पर लगाई

NRC समन्‍वयक प्रतीक हजेला का असम से मध्‍य प्रदेश ट्रांसफर, जान को था खतरा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 4:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...