लाइव टीवी

WHO का बड़ा फैसला, कोरोनावायरस को अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया गया

News18Hindi
Updated: January 31, 2020, 5:56 AM IST
WHO का बड़ा फैसला, कोरोनावायरस को अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया गया
चीन में कोरोना वायरस की वजह से अब तक 170 मौतें हो चुकी हैं

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि दुनिया भर में 8,200 से अधिक संक्रमित मरीज हैं, जिसे देखते हुए कोरोनावायरस (Coronavirus) को एक वैश्चिक स्वास्थ्य आपात घोषित किया जाना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2020, 5:56 AM IST
  • Share this:
जिनेवा. चीन (China) के कोरोनावायरस (Coronavirus) को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल (International Health Emergency) घोषित कर दिया है. डब्ल्यूएचओ की अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपात समिति की बैठक में इस पर निर्णय लिया गया. बता दें कि कोरोनावायरस की चपेट में आने से अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है और 2 हजार नए मामले सामने आए हैं.

WHO के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस ने ट्वीट करते हुए कहा, मैं कोरोनावायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता मानते हुए एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करता हूं. उन्होंने कहा मैं इसे चीन में जो हो रहा है उसके कारण नहीं बल्कि अन्य देशों में जो हो रहा है उसके कारण इसकी घोषणा करता हूं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि दुनिया भर में 8,200 से अधिक संक्रमित मरीज हैं, जिसे देखते हुए कोरोनावायरस को एक वैश्चिक स्वास्थ्य आपात घोषित किया जाना चाहिए.



बता दें कि चीन के वुहान में कोरोनावायरस के सबसे अधिक मरीज है हालांकि हालांकि कोरोनावायरस के सिर्फ एक प्रतिशत मामले चीन से बाहर पाए गए हैं. उनमें भी ज्यादातर लोग या तो चीन की यात्रा कर लौटे थे या चीन की यात्रा करने वाले लोगों के संपर्क में आए थे. लेकिन चीन से बाहर के तीन देशों में कुछ ऐसे मामले भी सामने आए हैं, जिनमें वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें :- तेजी से फैल रहा है कोरोना वायरस, आखिर क्यों नहीं मिल रहा है इलाज?

कोरोना वायरस ने हरियाणा में दी दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट-coronavirus in haryana hrrm
कोरोनावायरस के मरीज चीन के अलावा दुनिया के कई हिस्सों में पाए गए हैं


पिछली रिपोर्ट में हो गई थी बड़ी गलती
जर्मनी और जापान दोनों ने ही अपने देशों में इंसानों से इंसानों में इसके प्रसार के मामलों के बारे में बताया था. WHO की इमरजेंसी कमेटी की मुलाकात पिछले हफ्ते हुई थी लेकिन उस समय इस वायरस को अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य इमरजेंसी कहे जाने से पहले ही रोक दिया गया था. कहा गया था कि इसके लिए वायरस के बारे में और जानकारी जरूरी है. टेडरोस ने इस मामले में यह भी कहा है कि WHO को पिछले हफ्ते की अपनी रिपोर्ट्स को लेकर भी बहुत दुख है. जिनमें अंतरराष्ट्रीय खतरे को 'अधिकतम' के बजाए 'मध्यम' कहा गया था.

इसे भी पढ़ें :- चीन के जानलेवा कोरोना वायरस से डरे दुनियाभर के शेयर बाजार! आई भारी गिरावट, सेंसेक्स 200 अंक लुढ़का

corona virus outbrea indians will be airlifted from Chinese city of Wuhan
सरकार चीनी शहर वुहान से भारतीयों को निकालने की तैयारी कर रही है


गूगल, फेसबुक और एपल ने चीन से समेटा काम
कोरोनावायरस के कारण गूगल, फेसबुक और एपल जैसी कंपनियों ने अपना काम अस्थाई रूप से बंद कर दिया है. गूगल ने चीन में स्थित अपने दफ्तर को कुछ दिन के लिए बंद करने का फैसला किया है, वहीं फेसबुक और एपल ने अपने कामकाज को बेद सीमित कर लिया है. गूगल ने अपने कर्मचारियों से कहा है जब तक बेहद जरूरी काम न हो तब तक घर से बाहर निकलने से बचें. गूगल का ऑफिस बंद होने का असर अब हांगकांग और ताइवान पर भी दिखने लगा है.

इसे भी पढ़ें :- कोरोना वायरस: चीन के शहर वुहान से ऐसे एयरलिफ्ट किए जाएंगे भारतीय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 31, 2020, 5:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर