Home /News /world /

'ओमिक्रॉन' के डर से पूरी दुनिया अलर्ट मोड पर, साउथ अफ्रीका को किया अलग-थलग, WHO ने दी ये चेतावनी

'ओमिक्रॉन' के डर से पूरी दुनिया अलर्ट मोड पर, साउथ अफ्रीका को किया अलग-थलग, WHO ने दी ये चेतावनी

नए स्ट्रेन ओमिक्रॉन (Covid 19 New Strain Omicron) का सबसे पहला मामला दक्षिण अफ्रीका (South Africa) से सामने आया था.

नए स्ट्रेन ओमिक्रॉन (Covid 19 New Strain Omicron) का सबसे पहला मामला दक्षिण अफ्रीका (South Africa) से सामने आया था.

Coronavirus New Variant Omicron fear across the World:  कोरोना वायरस के नए वेरिएंट से दुनिया के तमाम देशों की चिंताएं बढ़ गई है. साउथ अफ्रीका में ओमिक्रॉन वेरिएंट मिलने के बाद कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों पर ट्रैवल बैन लगा दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत कई शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट गंभीर बताया है. शुरुआती जांच में यह पाया गया है कि यह तेजी से फैलने वाला वायरस है और इससे पुनः संक्रमित होने का खतरा है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली, वॉशिंगटन, लंदन: साउथ अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस (Coronavirus) के एक नए वेरिएंट से दुनिया के तमाम देश अलर्ट मोड पर आ गए हैं. बेहद संक्रामक और तेजी से फैलने वाले ओमिक्रॉन वेरिएंट को (Omicron Variant) लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत कई शोधकर्ताओं ने गंभीर बताया है. ब्रिटेन में डच हेल्थ अथॉरिटी साउथ अफ्रीका से लौटे उन 61 यात्रियों की जांच कर रही है जो कोरोना से संक्रमित पाए गए थे. हेल्थ अथॉरिटी इस बात का पता लगाने की कोशिश में है कि क्या वे सभी लोग कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित तो नहीं है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने शुक्रवार को बयान जारी करते हुए कहा कि, दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर शुरुआती जांच में यह पाया गया है कि यह तेजी से फैलने वाला वायरस है और इससे दोबारा संक्रमित होने का खतरा है.

    कोरोना वायरस का यह नया वेरिएंट अब तक बोस्टवाना, हॉन्ग कॉन्ग और बेल्जियम में मिला है. यूरोपियन सेंटर फॉर डिसीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ने कहा कि, यह वेरिएंट अति गंभीर है और इसके यूरोप में फैलने की संभावना है. कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के बारे में पता चलने के बाद पूरी दुनिया में इसे लेकर चिंता बढ़ गई है. कई देशों ने रोकथाम के लिए अन्य देशों से आने वाले यात्रियों पर ट्रैवल बैन लगा दिया है. वहीं इस वायरस के खौफ से दुनियाभर के शेयर बाजार में बड़ी गिरावट आई है.

    यह भी पढ़ें: WHO ने ‘Xi’ क्यों नहीं रखा नए वेरिएंट का नाम? जानें ‘ओमिक्रॉन’ के नामकरण की पूरी कहानी

    वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन में टेक्निकल लीड फॉर कोविड-19 की मारिया वान ने कहा कि, कोरोना वायरस के इस नए वेरिएंट में बड़ी संख्या में म्यूटेशन पाए गए हैं और इनमें से कुछ म्यूटेशन के लक्षण बेहद गंभीर है. उन्होंने कहा कि, इस नए वेरिएंट को लेकर कई शोध जारी हैं और हमें अब तक सिर्फ थोड़ी बहुत जानकारी मिल पाई है. इस बारे में वैज्ञानिकों की ओर से अधिक जानकारी प्राप्त के लिए इंतजार करना होगा. जैसे ही इस बारे में हमें कुछ और पता चलेगा हम विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत सभी देशों को यह जानकारी उपलब्ध कराएंगे. वहीं ब्रिटेन के वारविक मेडिकल स्कूल के वीरोलॉजिस्ट लॉरेंस यंग ने ओमिक्रॉन वेरिएंट को काफी गंभीर बताया है. उन्होंने कहा कि यह वायरस का अब तक का सबसे ज्यादा म्यूटेड संस्करण है.

    दुनिया से कटा साउथ अफ्रीका

    कोरोना वायरस के इस नए म्यूटेंट के सामने आने के बाद दुनिया भर में खलबली मच गई है. वहीं कई देशों ने सावधानी बरतते हुए दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों पर रोक लगा दी है और दक्षिण अफ्रीका से लगी अपनी सीमाओं को सील कर दिया है. इनमें अमेरिका, यूरोपियन यूनियन, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, जापान, रशिया, ब्राजील, सऊदी अरब. इजिप्ट और फिलिपींस जैसे देश शामिल हैं.

    वहीं अमेरिका ने साउथ अफ्रीका, बोस्टवाना, जिम्बाब्वे, नामीबिया, मोजांबी समेत अन्य देश के यात्रियों पर भी ट्रैवल बैन लगा दिया है. उधर दक्षिण अफ्रीका ने ट्रैवल बैन को लेकर नाराजगी जाहिर की है. अफ्रीका सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने कहा कि यात्रा पर प्रतिबंध लगाने से लोग निराश हुए हैं. कोरोना महामारी के दौरान हमने यह महसूस किया है कि नए वेरिएंट को लेकर ट्रैवल बैन लगाना एक सही फैसला नहीं है और इससे कोई सार्थक परिणाम नहीं मिले हैं.

    Tags: Coronavirus, Covid-19 Crisis, Omicron variant, WHO

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर