बुरा फंसा जाकिर नाइक, मलेशियाई पीएम की नाराजगी के बाद दोबारा पुलिस स्टेशन में होगी पूछताछ

News18Hindi
Updated: August 19, 2019, 8:48 PM IST
बुरा फंसा जाकिर नाइक, मलेशियाई पीएम की नाराजगी के बाद दोबारा पुलिस स्टेशन में होगी पूछताछ
जाकिर नाईक ने हाल ही में भारतीय और चीनी मूल के लोगों पर नस्लीय टिप्पणी की थी (फाइल फोटो)

भारत से अपनी गतिविधियों के चलते भागने के बाद जाकिर नाईक (Zakir Naik) ने मलेशिया (Malaysia) में हिंदुओं और चीनियों के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की है. जिसके बाद उसे मलेशियाई अथॉरिटी (Malaysian Authority) ने पूछताछ के लिए दूसरी बार बुलाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2019, 8:48 PM IST
  • Share this:
विवादास्पद इस्लामिक धर्मप्रचारक जाकिर नाइक (Zakir Naik) की दिक्कतें अब मलेशिया (Malaysia) में भी बढ़ने लगी हैं. भारत से अपनी गतिविधियों के चलते भागने के बाद जाकिर नाईक ने मलेशिया में हिंदुओं और चीनियों (Chinese) के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की है. जिसके बाद उसे मलेशियाई अथॉरिटी ने पूछताछ के लिए दूसरी बार बुलाया है.

बता दें कि जाकिर नाइक के इस विवादास्पद बयान पर बवाल इतना बढ़ चुका है कि मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद तीन दिन पहले ही बयान दे चुके हैं कि अगर यह साबित हो जाता है कि जाकिर नाइक की गतिविधियां मलेशिया के लिए नुकसानदेह हैं तो उसका स्थायी निवासी होने का दर्जा वापस लिया जा सकता है. अब उन्होंने यह भी कहा है कि विवादित उपदेशक को मलेशिया (Malaysia) में राजनीतिक गतिविधियों में शामिल होने की इजाजत भी नहीं है. मलेशियाई पुलिस इस बयान को लेकर जाकिर नाइक की जांच कर रही है.

दूसरी बार किया गया जाकिर नाइक को तलब
मलेशिया की आधिकारिक बर्नमा समाचार एजेंसी ने सोमवार को बताया था कि भारतीय अधिकारियों को साल 2016 से मनी लॉन्ड्रिंग और भड़काऊ भाषण के मामलों में जाकिर नाइक की तलाश है. वहीं इस नये मामले में जाकिर नाइक को सोमवार को दूसरी बार बुकीत अमन स्थित रॉयल मलेशिया पुलिस मुख्यालय में बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया है.

CID डायरेक्टर हुजिर मोहम्मद के मुताबिक जाकिर नाइक के खिलाफ मामला दंड संहिता की धारा 504 के तहत दर्ज किया गया है. यह धारा शांति भंग करने और जानबूझकर अपमान करने के लिए लगाई जाती है.

चीनी और हिंदू मूल के लोगों पर की थी नस्लीय टिप्पणी
उसके खिलाफ आरोप है कि उसने अपने 3 अगस्त वाले कोटा बारू के एक कार्यक्रम में मलेशियाई हिंदुओं और मलेशियाई चीनियों पर नस्लीय टिप्पणी की थी. उसने कहा था, "मलेशियाई हिंदुओं को भारत भेज देना चाहिए." मलेशिया से उसे डिपोर्ट किए जाने से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए जाकिर नाइक ने कहा था, "मलेशियाई चीनी नागरिकों (Chinese Citizens) को पहले देश छोड़ देना चाहिए क्योंकि वे पुराने मेहमान हैं." जाकिर ने यह भी कहा कि मलेशिया मे हिंदुओं ने भारत में मुसलमानों की तुलना में 100 गुना ज्यादा अधिकार का आनंद लिया. नाइक ने कहा था कि मलेशियाई हिंदू, मलेशिया सरकार से ज्यादा भारत सरकार पर भरोसा रखते हैं.
Loading...

अब जाकिर नाइक मलेशियाई नेताओं को दे रहा कानूनी कार्रवाई की धमकी
मलेशिया (Malaysia) के अल्पसंख्यकों के लिए दिए उसके कथित बयान के बाद देश भर में उसके ख़िलाफ़ 115 पुलिस रिपोर्ट दर्ज हो चुकी हैं. स्थानीय अखबार ‘मलय मेल’ की रिपोर्ट के मुताबिक जाकिर नाइक (Zakir Naik) ने एक लॉ फर्म के जरिए पेनांग प्रांत के उपमुख्यमंत्री (2) पी रामासामी, बगान डलाम असेंबली के सदस्य सतीस मुनिआंदी, पूर्व राजदूत दातुक डेनिस इगनेटियस और कलांग के सांसद चार्ल्स सेंटियागो के खिलाफ सोमवार को नोटिस भेजा. इस नोटिस में कहा गया है कि ये चारों लोग समुचित मुआवजे के साथ माफ़ी मांगे अन्यथा दो दिन में अवमानना का केस झेलने के लिए तैयार रहें.

यह भी पढ़ें: नफरत फैला रहे जाकिर नाइक के खिलाफ कोर्ट जाएंगे एम. कुलसेगरन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 8:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...