Home / Photo Gallery / ajab-gajab /ancient temples of the world these architectural value beyond your imagination hatshepsut ...

Ancient Temples:दुनिया के प्राचीन मंदिर, जिनकी भव्‍यता के आगे सब फीका, सद‍ियों से लोगों के आकर्षण का केंद्र

Temples In The WorlD: भारत मंदिरों का घर है. विश्वविख्‍यात मंदिरों की तो कोई कमी नहीं. लोग इन्‍हें देखने आते हैं. लेकिन आज हम आपको दुनिया के 8 सबसे प्राचीन मंदिरों के बारे में बताएंगे, जिनकी भव्‍यता के आगे सब फीका नजर आता है. सदियों से ये मंदिर लोगों की आस्‍था का केंद्र बने हुए हैं.

01

मिस्र का हत्शेपसुत मंदिर (Temple of Hatshepsut),लगभग 1,470 ईसा पूर्व इसका निर्माण फिरौन हत्शेपसुत के शाही वास्तुकार, सेनेमुट ने किया था. इसकी वास्‍तुकला आपका मन मोह लेगी. यहां की मूल मूर्तियां, गहने चोरी हो गए या खो गए लेकिन आज भी हजारों लोग इसे देखने के लिए आते हैं.

02

नील नदी के पूर्वी तट पर मौजूद अमदा मंदिर (Temple of Amada) को 1189 ईसा पूर्व बनाया गया था. हालांकि, बाद में यहां बाढ़ आने की वजह से 1970 के दशक में इसे नासिर झील के पास एक ऊंची जगह पर ले जाया गया. इस मंदिर का निर्माण फ्रांसीसी मिस्र के वैज्ञानिक क्रिश्चियन डेसरोचेस नोबलकोर्ट ने किया था.

03

गोबेकली टेप (Göbekli Tepe) दुनिया के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है. माना जाता है कि स्टोनहेंज से तकरीबन 6,000 साल पहले दक्षिण-पूर्वी तुर्की की एक पहाड़ी पर इसका निर्माण कराया गया था. बाद में यह साइट दफन हो गई थी. पुरातत्वविद् क्लॉस श्मिट ने 2008 में इसे फ‍िर दुनिया के सबसे पुराने मंदिर के रूप में प्रस्‍तुत किया.

04

माल्टा में स्थित हल-सफलीनी मंदिर का हाइपोगियम (Hypogeum of Ħal-Saflieni) लगभग 2,500 ईसा पूर्व भूमिगत बनाया गया था. यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में भी इसे मान्‍यता मिली हुई है. यह भूलभुलैया की तरह है. इसमें झूठी खिड़कियां, भुला देने वाले दरवाजे, सजावटी लाल गेरू से बनी पेंटिंग और नक्काशीदार पत्थर की छत है, जिसे देखकर आप खुश हो जाएंगे.

05

स्टोनहेंज (Stonehenge), जिसे दुनिया का सबसे मशहूर और रहस्‍यमय मंदिर माना जाता है. इसका निर्माण 3,000 ईसा पूर्व किया गया था. इसे पृथ्‍वी देवता का मंदिर भी माना जाता है; मंदिर को 1986 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया था.

06

ओगंटिजा मंदिर (Ġgantija Temples),आमतौर पर ओगंटिजा का मतलब विशाल होता है. अपने नाम के अनुरूप ही यह विशाल है. माल्‍टा के गोजो द्वीप पर बना यह मंदिर 3200 ईसा पूर्व के पहले निर्मित बताया जाता है. चूना पत्‍थर से इसका निर्माण किया गया है. आप जानकर हैरान होंगे कि एक पत्‍थर का वजन तकरीबन 50 टन है; यह भी विश्व धरोहर स्‍थल के रूप में मान्‍यता प्राप्‍त है.

07

अपोलो मंदिर (Temples of Apollo)का निर्माण 330 ईसा पूर्व में बताया जाता है. कहा जाता है कि तब दो मंदिरों का निर्माण किया जाना था, लेकिन एक मंदिर नष्‍ट हो गया. अपनी वास्‍तुकला के लिए यह मंदिर पूरी दुनिया में विख्‍यात है. यूनेस्‍को की विश्व धरोहर सूची में इसका भी नाम शामिल है.

08

ईरान में स्थित त्कोघा जांबिल मंदिर (Tchogha Zanbil)लगभग 1,250 ईसा पूर्व बनाया गया था. ऐसा माना जाता है कि इसकी स्‍थापना एलामाइट शासक उंटाश-गैल ने की थी. आयताकार सीढ़ीदार दिखने वाला यह मंदिर आज भी अच्‍छी तरह से संरक्ष‍ित है. इसकी खोज 1935 में एक तेल कंपनी के प्रॉस्पेक्टरों ने की थी. पुरातत्व विशेषज्ञ रोमन घिर्शमैन ने 1946 से 1962 के बीच इसकी खुदाई की.

  • 08

    Ancient Temples:दुनिया के प्राचीन मंदिर, जिनकी भव्‍यता के आगे सब फीका, सद‍ियों से लोगों के आकर्षण का केंद्र

    मिस्र का हत्शेपसुत मंदिर (Temple of Hatshepsut),लगभग 1,470 ईसा पूर्व इसका निर्माण फिरौन हत्शेपसुत के शाही वास्तुकार, सेनेमुट ने किया था. इसकी वास्‍तुकला आपका मन मोह लेगी. यहां की मूल मूर्तियां, गहने चोरी हो गए या खो गए लेकिन आज भी हजारों लोग इसे देखने के लिए आते हैं.

    MORE
    GALLERIES