कभी बेटी के जूते खरीदने के पैसे नहीं थे, आज शूज़ बिज़नेस से कर रही हैं मोटी कमाई

यह कहानी मोइरांगथेम मुक्तामणी देवी की है, जो कभी अपनी बेटी के लिए जूते नहीं खरीद पाई थीं. आज वे करती हैं होम मेड शूज और बैग का कारोबार और कई देशों को इनका एक्‍सपोर्ट-

विज्ञापन
विज्ञापन
First published: