नक्सल हमले में पैर खोने के बाद भी CRPF अफसर ने निभाया आदिवासी बच्चियों से किया वादा, पूरी की ये खास मुराद

छत्तीसगढ़ के सुकमा में 2019 में सीआरपीएफ अधिकारी वैभव विभोर एरिया सर्चिंग के लिए कैंप से निकले. तभी कन्या छात्रावास तेलावर्ती पहुंचे, जहां उन्होंने छात्राओं से मुलाकात की और उनसे पूछा आप लोग को क्या चाहिए. तब छात्राओं ने टेलीविजन की मांग की. इसके बाद कोरोनाकाल शुरू हो गया और आश्रमों का अवकाश हो गया. इसके बाद 2021 में अधिकारी का स्थानातंरण कोबरा 205 गया (बिहार) में हो गया, लेकिन उन्होने तीन साल बाद अपना वादा पूरा करते हुए तेलावर्ती आश्रम में टीवी लगाई.

विज्ञापन
First Published: