Union Budget 2018-19 Union Budget 2018-19
होम » फोटो » धर्म-कर्म
2/8
धर्म-कर्म Oct 22, 2017, 05:08 PM

समुद्र में मौजूद इस चमत्कारी चट्टान से शुरू हुआ विवेकानंद का सफर

भारतीय आध्‍यात्‍मिकता, धर्म और दर्शन का पूरी दुनिया में प्रचार-प्रसार करने वाले स्‍वामी विवेकानंद की ज्ञान की साधना बेहद गहरी रही है. ऐसा माना जाता है कि सन् 1892 में विवेकानन्द कन्याकुमारी आये और समुद्र के बीच एक चट्टान तक तैर कर गये और गहरी ध्यान की मुद्रा में रात बिताई. इस निर्जन स्थान पर साधना के बाद उन्हें जीवन का लक्ष्य एवं लक्ष्य प्राप्ति हेतु मार्ग दर्शन प्राप्त हुआ था. आइए जानते हैं क्‍या रहस्‍य है इस चट्टान का और अब क्‍या है वहां. (Input : भारतकोश)