इकबाल की कलम बनी आवाज, सारे जहां से अच्‍छा हिन्‍दोस्‍तां...

उर्दू और फ़ारसी के अज़ीम शायर और विचारक मोहम्मद इकबाल हिंदुस्तान-पाकिस्तान दोनों मुल्क के लिए महत्वपूर्ण शख्सियत थे. पढ़िए उनके शेर, जो हमें उनके कद का परिचय कराते हैं. पुण्यतिथि पर विशेष.

विज्ञापन
विज्ञापन
First published: