इन्‍हें शर्म नहीं आती! 10 वर्षों बाद मंत्री-विधायकों से टूटी आस तो ग्रामीणों ने खुद ही शुरू कर दी कच्‍ची सड़क की मरम्‍मत

Bokaro Photo News: नवाडीह प्रखंड से तकरीबन 5 किलोमीटर की दूरी पर जामुनपनिया नाम का गांव स्थित है. इस गांव को मुख्‍य सड़क से जोड़ने के लिए एक अदद सड़क तक नहीं है. बारिश के मौसम में यह गांव अन्‍य इलाकों से पूरी तरह कट जाता है. ग्रामीणों ने स्‍थानीय विधायक, सांसद और अन्‍य जनप्रतिनिधियों से सड़क बनवाने की गुहार लगाई, लेकिन 10 वर्षों के बाद भी उनकी फरियाद किसी ने नहीं सुनी. इसके बाद गांव के स्‍त्री और पुरुष हाथों में फावरा और टोकरी लेकर खुद ही सड़क बनाने में जुट गए. (टेक्‍स्‍ट और फोटो: मृत्‍युंजय कुमार)

विज्ञापन
First published: