Ibn-e-Insha Shayari: 'रात आ कर गुज़र भी जाती है...' पढ़ें, इब्न-ए-इंशा के क्लासिक शेर

इब्न-ए-इंशा के शेर (Ibn-e-Insha Shayari): पाकिस्तानी शायर इब्न-ए-इंशा का जन्म 15 जून 1927 को फिल्लौर, पंजाब में हुआ था. उनका मूल नाम शेर मुहम्मद ख़ान था. उनकी ग़ज़ल 'कल चौदहवीं की रात' ने काफी लोकप्रियता बटोरी. आज पढ़ें, उनके लिखे मशहूर शेर (Famous sher)

विज्ञापन
विज्ञापन
First published: