Izhar Shayari: 'दिल पे कुछ और गुज़रती है मगर...' चुनिंदा शेरों के जरिए करें अपना हाल-ए-दिल बयान

Izhar or Proposal Shayari: प्यार (Love), उल्फ़त और मोहब्बत, लफ्ज़ कोई भी हो, अहसास एक ही होता है. प्यार का मोहताज शख्स अक्सर ऐसे अल्फ़ाज़ ढूंढता है, जिनके जरिए अपने दिल की बात बयान करने में आसानी हो. कई बार अपनी चाहत का इज़हार (Izhar) करने में कुछ लोगों को चंद पल भी खर्च नहीं करने पड़ते तो कई लोगों के लिए ये काम मुश्किल भरा होता है. वो सीधे तौर पर अपना हाल-ए-दिल बयान (Propose) नहीं कर पाते, तो कई लोग महफिल में रहकर घुमा-फिरा कर उस एक खास शख्स तक अपनी बात पहुंचाना चाहते हैं. तरीका कोई भी हो मंजिल इश्क ही है. पढ़ें 'इज़हार' इर्द-गिर्द घूमते लफ्जों से बनी शायरियां दिल को सुकून पहुंचाती शायरियां (Shayari)

विज्ञापन
विज्ञापन
First published: