Photos : वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई का बलिदान दिवस आज, रानी के लिए 745 साधु-संतों ने भी दी थी कुर्बानी

ग्वालियर.  "बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी... खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी"... सुभद्रा कुमारी चौहान की ये कविता भारतीय  स्वतंत्रता संग्राम की पहली वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई के शौर्य और बलिदान की गाथा सुनाती हैं.

First published: