Photos : महाकाल की नगरी उज्जैन से जुड़ी हैं गुरु नानकदेवजी की स्मृति, क्षिप्रा तट पर किया था सत्संग

गुरुनानक देवजी की उज्जैन से भी स्मृति जुड़ी है. कहते हैं गुरु नानक देवजी 15 वीं शताब्दी में उज्जैन क्षिप्रा तट आये थे जहां उन्होंने राजा भृर्तहरि के साथ एक विशाल वृक्ष के नीचे बैठ सत्संग किया और शबद पढ़ा. इसका स्पष्ट उल्लेख पवित्र गुरुग्रंथ साहिब में भी है.

विज्ञापन
विज्ञापन
First Published: