बॉर्डर पार एक जांबाज पायलट के पीछे पड़ गए थे 6 विमान, पढ़ें- वीर चक्र विजेता की कहानी

पाकिस्तानी हवाई हमले और गोलाबारी की परवाह किए बिना जान हथैली पर रखकर जांबाज दुर्गाशंकर पालीवाल सेना तक बारूद से भरी पूरी ट्रेन पहुंचाता है.

विज्ञापन
विज्ञापन
First published:
विज्ञापन

विज्ञापन