आइए आपको ले चलें विशाल खजाने की ओर, इसे देखकर हैरान रह जाएंगे आप

खजाना शब्द रोमांच पैदा करता है. इसे सुनते ही हीरे-जवाहरात, सोना-चांदी की चमचमाती दुनिया जेहन में आती है. लेकिन आज हम एक ऐसे खजाने की ओर लिए चलेंगे, जो हमारे लिए धरोहर की तरह है. इस खजाने को देखकर आप खुद कह उठेंगे - वाह. हम बात कर रहे हैं मेरठ के चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय स्थित राजा महेन्द्र प्रताप लाइब्रेरी की. यहां लाखों की संख्या में किताबों का ऐसा खजाना है, जो इसे दूसरी लाइब्रेरियों से थोड़ा अलग है. यहां 1968 से लेकर अब तक के सारे हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी के अखबार मौजूद हैं. राजा महेन्द्र प्रताप लाइब्रेरी के डिप्टी लाइब्रेरियन आईए सिद्दीकी का दावा है कि देश में अखबारों का ऐसा विशाल कलेक्शन कहीं नहीं होगा.

विज्ञापन
विज्ञापन
First published: