हस्तिनापुर के गली कूचे रच रहे हैं स्वच्छा की नई कहानी, देखें तस्वीरें

मेरठ. ऐतिहासिक धरती पांडवों की राजधानी रही हस्तिनापुर आज भी देश को संदेश दे रही है. एक तरफ जहां देशभर में अभी नो पॉलिथीन जोन को लेकर युद्धस्तर पर कार्य चल रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ हस्तिनापुर के गांवों ने नो पॉलिथीन जोन के सपने को साकार कर दिया है. यहां की महिलाओं ने कपड़े और जूट के बैग को लेकर ऐसी अलख जगाई कि अब यहां के गांव-गांव नो पॉलिथीन जोन बन गए हैं. यहां के पंचायत घर, यहां के प्राइमरी स्कूल, यहां की सड़कें पैगाम देती हुई नजर आती हैं. आज की तारीख में अगर आप हस्तिनापुर का दौरा करेंगे तो आपको पॉलिथीन कहीं नजर नहीं आएगी.

First published: