प्रियंका गांधी कल जलमार्ग से जाएंगी सीतामढ़ी, समाहित स्थल पर करेंगी पूजा-अर्चना

रामचरित मानस के अनुसार माता सीता ने अपने दूसरे वनवास के दिन यहीं बाल्मीकि आश्रम में बिताये थे और यहीं उन्होंने लव और कुश को जन्म दिया था.

विज्ञापन
विज्ञापन
First Published: