Uttarakhand Culture : गंगा के घाटों पर कम दिखी भीड़, लेकिन उत्तरायणी मेले में Covid पर आस्था भारी

Ganga Snan 2022 : बागेश्वर में लगने वाले उत्तरायणी मेले का धार्मिक, व्यापारिक और राजनैतिक महत्व रहा है. अंग्रेज़ों के ज़माने की कुली बेगार प्रथा के खात्मे के आंदोलन (People's Movement in Uttarakhand) को इस बार 101 साल पूरे हुए. जिसने महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) तक को प्रभावित किया था, पहाड़ के उस आंदोलन के बारे में तो आपको बताएंगे ही, ये भी बताते हैं कि मकर संक्रांति पर पूरे राज्य (Sankranti in Uttarakhand) में क्या नज़ारे रहे. बागेश्वर से सुष्मिता थापा के इनपुट्स के साथ तस्वीरों में देखिए उत्तराखंड में उत्तरायणी पर्व के डिटेल्स.

विज्ञापन
विज्ञापन
First Published: