पिथौरागढ़ में हाल-बेहाल, 11 रास्ते अब भी बंद, गांव संपर्क से कटे, आखिरी गांव में सड़क ही नहीं

स्थानीय प्रशासन और बीआरओ की लेटलतीफी पर आला अफसर गुस्सा दिखा चुके हैं और विभागीय सुस्ती पर ग्रामीण भी, लेकिन नतीजा यही है कि डेढ़ हफ्ते बाद भी रास्ते नहीं खुले हैं और लोग अब अपने दम पर ही सड़कें खोलने में जुट रहे हैं.

विज्ञापन
First published:
विज्ञापन

विज्ञापन