रुद्रप्रयाग के इस गांव के आधे खेत बह गए थे 2012 में, अब तक  नहीं मिली राहत

सीता देवी मिश्रा कहती हैं कि पहले खेती से ही चार बच्चों वाला उनका परिवार आराम से पलता था लेकिन अब खेत ही नहीं हैं तो गुज़ारा कैसे होगा.

विज्ञापन
First published:
विज्ञापन

विज्ञापन