#जीवनसंवाद: रिश्तों के शीत युद्ध!

  • October 22, 2020, 4:07 pm
हमारी हर दिन की जिंदगी में भी शीत युद्ध लगभग वैसा ही है, जैसा दुनिया के बड़े देशों के बीच दो विश्व युद्ध के दौरान रहा है. अब तो खैर पूरी दुनिया ही शीत युद्ध में है. मनुष्यता का इतिहास युद्ध से भरपूर रहा है. शांति केवल शब्द तक आई है. भीतर नहीं पहुंची. इसलिए, हम सब अधिकांश समय शीत युद्ध में ही होते हैं. बाहर तो युद्ध नहीं दिखता, लेकिन भीतर युद्ध की निरंतर तैयारी चल रही है! हम गौतम बुद्ध, गांधी की अहिंसा से जितने दूर निकलते जाएंगे, युद्ध में भले न फंसें, लेकिन शीत युद्धों में हमेशा ही उलझे रहेंगे. विश्व की राजनीति हमारी हर दिन की जिंदगी को अब पहले के मुकाबले कहीं अधिक गहराई से प्रभावित करने लगी है. बुद्ध बड़ी सुंदर बात कहते हैं, 'शांति जिसने जानी है, उसकी अशांति हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है. बहुत थोड़े लोग इस दशा को उपलब्ध होते हैं. लोग शांति को जानते नहीं, केवल शब्द सुनते हैं. अशांति का लोगों को अनुभव है, शांति अभी केवल आकांक्षा है, मन की सतह पर बैठी आशा है.'

जब तक हम शांति को अपने जीवन में उतार नहीं पाएंगे, हर पल शीत युद्ध में ही उलझे रहेंगे. हमारा ध्यान, दूसरों पर बहुत अधिक केंद्रित है. हम उनके विषय में ही सोचते रहते हैं. किसी ने ऐसा कहा, तो क्यों कहा? वह इस बात को ऐसे न कहकर ऐसे भी कह सकता था! वह तो मेरे उपकार के कर्ज में ही दबा जा रहा है, उसके बाद भी उसमें कृतज्ञता का अभाव है! हमारी पूरी प्रक्रिया दूसरों पर आधारित है. हमें इस बात को समझने की जरूरत है कि जीवन इतना बड़ा नहीं, जितना हम माने बैठे हैं. वह तो केवल अतीत में है. अब तक जो जिया सब अतीत के हिस्से गया. वर्तमान अतीत की चिंता और कल की बेचैनी में गया, तो शेष बचा क्या! इसलिए, शांति का मन में गहरे बैठना जरूरी है. शांति भीतर बैठ गई, तो बहुत संभव है, हम आज पर टिके रहें! वर्तमान की छाया में ही बैठे रहें. इससे जीवन के प्रति आस्था और विश्वास गहरा होता है.

मन की शांति का एक छोटा-सा किस्सा आपसे कहता हूं. इसका मन की बेचैनी से सीधा संबंध है. अमेरिकी अरबपति एंड्रयू कार्नेगी जब जीवन के अंतिम समय में थे, तो उनकी मौत से दो दिन पहले उनके सेक्रेटरी ने उनसे पूछा, 'आप तो बहुत संतुष्ट होंगे, दस अरब रुपए! जीवन में इससे अधिक संतुष्टि क्या होगी! ' कार्नेगी ने कहा, 'नहीं! मैं तो बहुत बेचैन हूं. अशांति में मर रहा हूं, क्योंकि मेरी योजना तो सौ अरब रुपए कमाने की थी.'


कार्नेगी की अशांति को समझिए. उनके दर्द को सुनिए. उनका खाता कितना गहरा है. हम समझ रहे हैं कि वह दस अरब रुपए कमाकर संतुष्ट होंगे, लेकिन वह तो नब्बे अरब रुपए के खाते का दर्द लिए मृत्यु की गोद में जा रहे हैं. जीवन के प्रति इस तरह का रवैया कठोरता, बेचैनी और हिंसा को ही बढ़ाएगा. हमारी जीवनशैली कुछ ऐसी है, जैसे कोई नींद में चल रहा हो.

'जीवन संवाद' के पिछले कुछ अंकों में मैंने आपसे भोपाल, जयपुर और लखनऊ के कुछ युवा कारोबारियों, उच्च पदों पर बैठे लोगों के जीवन पर आ रहे संकट का जिक्र किया था. इनके संकट कार्नेगी के संकट से बहुत दूर नहीं हैं. हम उस भारतीय जीवनशैली से दूर निकलते देख रहे हैं, जहां सहअस्तित्व, स्नेह और एक-दूसरे के साथ का बहुत अधिक महत्व था. इस पूरे एक विचार से निकलकर कार्नेगी के रास्ते पर चल रहे हैं.

#जीवनसंवाद: आंसुओं को पुकारना!

जीवन का महत्व है! इससे किसे इंकार होगा. क्या धन ही जीवन है. हम उसके पीछे ऐसे दौड़ते हैं कि बाकी सबका साथ छोड़ने लगते हैं. कुछ कुछ वैसे ही जैसे छूट गई रेल को उस समय भी पकड़ने की कोशिश करते हैं, जब वह प्लेटफॉर्म छोड़ गई हो! संभव है, एक बार आप इसमें सफल हो जाएं, लेकिन उससे अधिक कुछ होने की संभावना है. हमें अपने जीवन की ओर लौटने की जरूरत है. अपने रिश्तों के भीतर झांकिए, देखिए, कहीं कोई घुटन तो नहीं. रिश्तो के भीतर जमी खरपतवार को नजरअंदाज मत कीजिए. जीवन को मन के युद्ध में मत खपाइए! जिस चीज को हम भीतर से निकाल देते हैं, वह बाहर अधिक दिन तक नहीं रह पाती. प्रेम ऐसा ही कोमल भाव है. जीवन की ऑक्सीजन है. उसे भीतर सहेजना ही होगा!

#जीवनसंवाद: दृष्टि का अंतर!

आप अपने मन की बात फेसबुक और ट्विटर पर भी साझा कर सकते हैं. ई-मेल पर साझा किए गए प्रश्नों पर संवाद किया जाता है.

ईमेल: dayashankarmishra2015@gmail.com
https://www.facebook.com/dayashankar.mishra.54
https://twitter.com/dayashankarmi

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज