podcast : कोविड महामारी में माता-पिता को खो चुके बच्चों की मदद की योजना बनाई सरकार ने

  • July 26, 2021, 10:42 am

नई दिल्ली. आप सुनना शुरू कर चुके हैं न्यूज18 हिंदी का पॉडकास्ट. स्वीकार करें मेरा नमस्कार. दोस्तो, आज कारगिल विजय दिवस है. आज ही के दिन भारतीय सेना ने कारगिल की पहाड़ियों से पाकिस्तानी सेना को खदेड़ दिया था. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर देश की राजधानी में बेहद कम हो चली है. आज से दिल्ली में छूट का दायरा और बढ़ा दिया गया है. इस पॉडकास्ट में हम आपको बताएंगे कि किन चीजों को मिली है छूट और अभी किन चीजों पर लगा रहेगा बैन. इसके अलावा, बारिश से बदहाल महाराष्ट्र की खबर भी लेकर आए हैं हम. कोविड के शिकार हुए माता-पिता के बच्चों की मदद कैसे करेगी सरकार यह भी बताएंगे आपको. मंदसौर में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई है. हिमाचल प्रदेश के किनौर में हुए भूस्खलन की भी खबर है आज के पॉडकास्ट में. बिहार विधानसभा का सत्र आज से शुरू हो रहा है, विपक्ष किस मूड में है यह भी बताएंगे आपको. और पॉडकास्ट के अंत में आपको बताएंगे मध्य प्रदेश के उस गांव का हाल जहां सड़क नहीं होने के कारण गर्भवती महिला को 8 किलोमीटर तक टांग कर ले गए उसके परिजन. फिलहाल चलें पहली खबर की ओर.



आज कारगिल विजय दिवस है. 26 जुलाई 1999 में भारतीय सेना ने कारगिल में पाकिस्तान के खिलाफ जीत हासिल की थी. लद्दाख में कारगिल की पहाड़ियों पर 60 दिनों तक चले इस युद्ध में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना को खदेड़ दिया था. देश में हर साल इस कामयाबी का जश्न मनाया जाता है. 22वें कारगिल विजय दिवस के मौके पर रविवार को लद्दाख के द्रास इलाके में स्थापित कारगिल युद्ध स्मारक पर 559 दीप जलाए गए. इस मौके पर शीर्ष सैन्य अधिकारी, सैन्य कर्मियों के परिवार के सदस्य और अन्य लोग मौजूद रहे. रक्षा मंत्रालय के जनसंपर्क अधिकारी कर्नल इमरान मुसावी ने बताया कि कैप्टन विक्रम बत्रा की जिंदगी पर बन रही फिल्म ‘शेरशाह’ का ट्रेलर द्रास में जारी किया गया. कैप्टन बत्रा ने कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान से लड़ते हुए मात्र 24 साल की उम्र में शहादत दी थी. उन्हें मरणोपरांत सर्वोच्च वीरता पुरस्कार परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था. आज सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का भी द्रास आने का कार्यक्रम है, जहां वे तोलोलिंग पहाड़ी की तलहटी में स्थापित युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे. सीडीएस बिपिन रावत भी आज इस इलाके का दौरा करेंगे. हर साल इस दिन प्रधानमंत्री दिल्ली में इंडिया गेट के अमर जवान ज्योति पर सशस्त्र बलों को श्रद्धांजलि देते हैं.

देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना वायरस की दूसरी लहर करीब-करीब थमने को है. आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने आज यानी 26 जुलाई सुबह 5 बजे से छूट का दायरा बढ़ा दिया है. अब दिल्ली में मेट्रो और डीटीसी बसों को 100 फीसदी क्षमता के साथ संचालित करने की इजाजत दे दी गई है. सिनेमा हॉल, थिएटर, स्पा और मल्टीप्लेक्स भी 50 फीसदी क्षमता के साथ खुल जाएंगे. इन सभी को कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन करना होगा. दिल्ली में फिलहाल स्‍कूल और शैक्षणिक संस्‍थान बंद रहेंगे. सामाजिक, सांस्‍कृतिक और राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक जारी रहेगी और धार्मिक स्‍थलों पर भक्‍तों की एंट्री पर भी बैन लागू रहेगा. दिल्ली मेट्रो की एक बोगी में एकसाथ 50 यात्री ही सफर कर सकेंगे. किसी भी यात्री को दिल्ली मेट्रो में खड़े होकर सफर करने की अनुमति नहीं दी गई है. दिल्‍ली में मैरिज हॉल, बैंक्वेट हॉल या होटल में होने वाली शादी में अब 100 लोग शामिल हो सकते हैं. इससे पहले 50 लोगों के शामिल होने की इजाजत थी. अंतिम संस्कार में भी अब 20 के बजाय 100 लोगों के शामिल होने की छूट दी गई है.

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से अनुरोध किया है कि वे जिलाधिकारियों को उन बच्चों की पहचान करने का निर्देश दें, जिन्होंने कोविड-19 महामारी के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है ताकि ऐसे बच्चों को ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रेन’ योजना के तहत मदद दी जा सके. मंत्रालय ने उन्हें त्वरित सहायता देने के लिए बनाए गए एक पोर्टल पर ऐसे बच्चों की विस्तृत जानकारी देने के लिए भी कहा है. सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को लिखे पत्र में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सचिव इंदेवर पांडे ने कहा कि आप अपने राज्य के जिलाधिकारियों को पीएम केयर्स योजना के तहत सहायता प्राप्त करने के लिए पात्र बच्चों की पहचान करने और पात्र बच्चों के विवरण देने का निर्देश दें, ताकि उन्हें तत्काल सहायता मिल सके. यह कार्य अगले 15 दिनों में पूरा किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों को कोविड की वजह से खो दिया है और योजना के तहत सहायता की आवश्यकता है, उसकी जानकारी चाइल्डलाइन 1098 पर दी जा सकती है. उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे बच्चों को जिला बाल संरक्षण इकाई यानी DCPU या किसी अन्य एजेंसी या व्यक्ति द्वारा बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया जा सकता है. इस योजना के तहत सहायता प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र बच्चों या उनकी देखभाल करने वाले या किसी अन्य एजेंसी द्वारा भरा जा सकता है. उन्होंने कहा कि माता-पिता की मृत्यु के कारणों की पुष्टि उनके मृत्यु प्रमाण पत्र या जांच के जरिए की जाएगी.

महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण हुई भूस्खलन की घटनाओं के बाद 73 शव बरामद किए गए हैं और 47 लोग लापता हैं. राष्ट्रीय आपदा राहत बल यानी एनडीआरएफ ने रविवार को यह जानकारी दी. बल के महानिदेशक एसएन प्रधान ने राज्य के रायगढ़, रत्नागिरी और सातारा जिलों में चलाए जा रहे अपने अभियान पर ताजा आंकड़ों की जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी. आंकड़ों के अनुसार, एनडीआरएफ ने इन इलाकों से कुल 73 शव बरामद किए हैं, जिनमें से सबसे अधिक 44 शव रायगढ़ की महाड तहसील के तलीये गांव से बरामद किए गए हैं. रविवार दोपहर 12 बजकर 19 मिनट पर किए गए ट्वीट के अनुसार, इन तीन जिलों में 47 लोग लापता हैं. ट्वीट में कहा गया है कि एनडीआरएफ रायगढ़ में भूस्खलन से प्रभावित तलीये, रत्नागिरी में पोरासे और सातारा जिले में मीरगांव, अंबेघर और ढोकावाले में बचाव और राहत कार्यों में लगा हुआ है.

ये खबरें आप न्यूज 18 हिंदी के पॉडकास्ट में सुन रहे हैं. इन्हें विस्तार से पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट हिंदी डॉट न्यूज18 डॉटकॉम पर जाएं.

मध्य प्रदेश के मंदसौर में जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत हो गई है, जबकि एक को गंभीर रूप से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. यह मामला मल्हारगढ़ तहसील के पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र के खखराई गांव का है. जहरीली शराब से हुई मौत की सूचना मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी ली. इस मामले पर मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक और प्रदेश के वित्त और आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा ने ट्वीट कर घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कोई भी दोषी हो, उसे बख्शा नहीं जाए. जहरीली शराब पीने से जिन लोगों की मौत हुई है उनकी पहचान घनश्याम बावरी, श्याम लाल मेघवाल और मनोहर लाल बागरी के रूप में हुई है. गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय में भर्ती शख्स का नाम पर्वत सिंह बताया जा रहा है. शराब पीकर बीमार हुए पर्वत सिंह के परिजनों और ग्रामीणों ने बताया कि बाहर से लाई गई शराब पीने के बाद इन सबकी तबीयत खराब हो गई, जिनमें से 3 की मौत हो गई है.

बिहार विधानसभा का आज से मॉनसून सत्र शुरू हो रहा है. इस दौरान नीतीश सरकार पर विपक्षी दल खासकर आरजेडी और कांग्रेस हमलावार रह सकते हैं. इस बीच आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि हम पहले दिन चाहते हैं कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विधानसभा में विधायकों की पिटाई के मामले पर कार्रवाई नहीं करने पर अपना स्‍पष्‍टीकरण जरूर दें. आखिर कार्रवाई क्यों नहीं की? उन्होंने कहा कि विधानसभा में विधायकों को नीतीश कुमार के इशारे पर पीटा गया. इस पर हमने विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखा कि दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए. इस मामले में कार्रवाई हुई तो केवल 2 सिपाहियों को निलंबित किया गया. तेजस्वी ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार का चरित्र रहा है कि छोटी मछलियों को पकड़ों और बड़ी मछलियों को बचाओ. उन्‍होंने कहा कि नीतीश सरकार को सदन में हर बात का जवाब देना होगा. वहीं, सत्‍ता पक्ष ने साफ तौर पर कहा है कि हम विपक्ष की हर बात का जवाब पूरी दमदारी से सदन में रखेंगे.

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में बटसेरी की पहाड़ी से हुए लैंडस्लाइड में 9 लोगों की मौत हो गई है. पहाड़ी से टूटकर गिरे चट्टानों की चपेट में कई वाहन आए हैं. इस दुर्घटना में पर्यटकों से भरी गाड़ी पर एक भारी पत्थर गिर गया, जिससे उसमें सवार 9 लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं. घायलों को सीएचसी सांगला रेफर किया गया है. किन्नौर जिले में बटसेरी के गुंसा के पास यह हादसा हुआ. भूस्खलन की चपेट में आई पर्यटकों की गाड़ी छितकुल से सांगला की ओर आ रही थी. बताया जा रहा है कि गाड़ी में सवार पर्यटक दिल्ली और चंडीगढ़ से हिमाचल प्रदेश घूमने आए थे. भूस्खलन होने से बास्पा नदी पर बना पुल भी भरभरा कर टूट गया है. इस हादसे में मारे गए लोगों के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांत्वना व्यक्त की है. पीएमओ की ओर से घोषणा की गई है कि इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की राहत राशि दी जाएगी जबकि घायलों को 50-50 हजार रुपये की मदद की जाएगी.

मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में गर्भवती महिला को एंबुलेंस तक पहुंचाने के लिए उसके परिजन 8 किलोमीटर तक टांग कर ले गए. दरअसल, 21 साल की इस महिला को प्रसव पीड़ा हुई, लेकिन उनके घर तक एंबुलेंस के पहुंचने के लिए रास्ता नहीं है. तब महिला के परिजनों ने तय किया कि कंधों पर लटकाकर उसे 8 किमी दूर उस जगह तक ले जाया जाए, जहां एंबुलेंस पहुंच सकती है. यह मामला पानसेमल जनपद पंचायत का है. इस जनपद पंचायत के गांव खामघाट फिलए में न पुलिया है, न कोई सड़क. शनिवार रात सुनीता मुजाल्दे को प्रसव पीड़ा हुई. उनके पिता राय सिंह पटेल ने 108 नंबर पर एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन वह घर तक नहीं आ सकी. पटेल ने बताया कि उनकी बेटी दो घंटे तक दर्द से तड़पती रही. जब परिवार को कोई दूसरी आस नहीं दिखाई दी तो सभी ने बेटी को झोली में डालकर 8 किमी दूर ग्राम आमझिरी तक जाने का फैसला किया. इसके बाद महिला को एंबुलेंस से पानसेमल अस्पताल पहुंचाया गया. सुनीता ने रात 8 बजे बिटिया को जन्म दिया. इस पूरे मामले पर News 18 ने बड़वानी कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा से बात की तो उन्होंने भौगोलिक परिस्थितियों को बड़ी चुनौती बताया. उन्होंने कहा कि क्षेत्र में ग्रामीण फलिया पद्धति में रहते हैं. इसके चलते इलाके में सीमित संख्या में लोगों के मकान होते हैं. यही कारण है कि हर फलिए में सड़क सुविधाएं मुहैया करा पाना मुश्किल है. फिर भी जिला पंचायत सीईओ ऋतुराज से इस मामले की जांच कराई जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि क्षेत्र की जनसंख्या के अनुरूप ज्यादा आबादी वाले क्षेत्रों को चिन्हित किया जाएगा. वहां किस तरह से सड़क सुविधा मुहैया कराई जा सकती है, इस पर विचार किया जाएगा.

ये खबरें आप न्यूज 18 हिंदी के पॉडकास्ट में सुन रहे थे. इन्हें विस्तार से पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट हिंदी डॉट न्यूज18 डॉटकॉम पर जाएं. न्यूज 18 हिंदी के पॉडकास्ट में आज इतना ही. नई खबरों और नए अपडेट के साथ हम फिर मिलेंगे. तबतक के लिए दें विदा. नमस्कार.

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज