अपना शहर चुनें

  • No filtered items

राज्य

अब तक की सबसे उथल-पुथल वाली सीरीज के लिए दक्षिण अफ्रीका पहुंचे भारतीय क्रिकेटर

  • December 17, 2021, 5:06 pm

भारत में न्यूजीलैंड के खिलाफ बिना किसी खास चुनौती के तकरीबन एकतरफा सीरीज मेजबान ने जीती थी, लेकिन तब से अब तक गंगा मे काफी पानी बह चुका है. पिछले तीन चार दिनों में जो कुछ हुआ, वह सचमुच दुर्भाग्यपूर्ण है. जिस तरह से कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस मे बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली को गलत ठहराया, उससे एक बात साफ है कि भारतीय क्रिकेट के दो कामयाब और लोकप्रिय कप्तानों मे कोई एक गलतबयानी कर रहा है.



नमस्कार, सप्ताह भर की क्रिकेट सरगर्मियों को समेटे मैं हाजिर हूं, स्वीकार कीजिए संजय बैनर्जी का नमस्कार. ‘सुनो दिल से’. संभवतः पिछले कुछ वर्षों मे अब तक की सबसे उथल पुथल वाली सीरीज के लिए भारतीय क्रिकेटर दक्षिण अफ्रीका पहुंच चुके हैं. दोनों देशों की अपनी अंदरूनी परेशानियां हैं,  क्रिकेट का कारवां तो न जाने इस तरह की कितनी परेशानियों को पीछे छोड़ लगातार आगे बढ़ता रहा है. भारत में कप्तानी का मसला और फिर बोर्ड के साथ विराट कोहली की टकराहट एक मुद्दा है तो दूसरी तरफ मेजबान साउथ अफ्रीका में नस्लभेद को लेकर आई रिपोर्ट के बाद जो उथल-पुथल है, वह अलग मामला है, उस पर दक्षिण अफ्रीका मे लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले भी लगातार मुश्किलें बढ़ा रहे हैं.

ऐसे मे यह तय है कि इस सीरीज का सही तरीके से निकल जाना भी एक सफलता ही मानी जाएगी. टीम इंडिया की परेशानिया ज्यादा हैं, क्योंकि अब भारतीय क्रिकेट मे एक नहीं दो कप्तान हैं. पहले विराट अकेले कप्तानी की जिम्मेदारी संभालते थे और अब उनके पास सिर्फ टेस्ट की कप्तानी बची है. जिस तरह से यह पूरा ड्रामा हुआ, उससे खिलाड़ियों के आपसी विश्वास मे कमी आई होगी, इसमे कोई शक नहीं. ड्रेसिंग रूम का माहौल पहले से जुदा होगा , बोर्ड और कुछ खिलाड़ियों के बीच भी फासला बढ़ चुका है, ऐसे मे टीम इंडिया को अलग तरह की परेशानियों से दो चार होना पड़ेगा.

भारत में न्यूजीलैंड के खिलाफ बिना किसी खास चुनौती के तकरीबन एकतरफा सीरीज मेजबान ने जीती थी, लेकिन तब से अब तक गंगा मे काफी पानी बह चुका है. पिछले तीन चार दिनों में जो कुछ हुआ, वह सचमुच दुर्भाग्यपूर्ण है. जिस तरह से कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस मे बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली को गलत ठहराया, उससे एक बात साफ है कि भारतीय क्रिकेट के दो कामयाब और लोकप्रिय कप्तानों मे कोई एक गलतबयानी कर रहा है.

दुनिया की सबसे अमीर और ताकतवर बोर्ड के सामने भारतीय कप्तान का ओहदा हमेशा मजबूत रहा है. खासकर जब से विराट कप्तान रहे हैं, इसका दायरा और भी बढ़ा है. पर जिस तरह से बोर्ड ने एक झटके में विराट को वनडे की कप्तानी से हटा दिया, उससे यह साफ है कि शतरंज की बाजी मे मोहरों की ताकत से ज्यादा चाल अहम होती है. विराट के इस बाउंसर पर क्रिकेट जगत में बहस छिड़ चुकी है, ऐसे मे देखना होगा की दादा सौरव गांगुली इस बाउंसर को डक करेंगे, या इस पर कोई बड़ा शॉट खेलेंगे.

बीसीसीआई के एक अनुभवी प्रशासक की ओर से यह कहा जाना कि ‘बीसीसीआई के लिए यह काफी पेचीदा है. बोर्ड बयान जारी करता है तो कप्तान को झूठा साबित करेगा और बयान जारी नहीं करता है तो अध्यक्ष पर सवाल उठेंगे.’ मानने वालों का यह भी मानना है की बोर्ड से सीधा टकराव आने वाले वक्त मे कोहली को भारी पड सकता है, लेकिन हमने यह भी देखा है की गांगुली से टकराने के बावजूद रवि शास्त्री बिना किसी परेशानी के अपना कार्यकाल पूरा कर गए.

बहरहाल, दक्षिण अफ्रीका में विराट टेस्ट में और रोहित शर्मा वनडे में कप्तानी करेंगे. भारतीय क्रिकेट के लिए यह भी नई शुरुआत है. कोहली पर अब टेस्ट में पिछली उपलिब्धयों को बनाए रखने की जिम्मेवारी होगी तो रोहित शर्मा पर उस टैग को हटाने की, जिसमें विराट के समय भारत कोई भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाया है. दुर्भाग्य से रोहित चोटिल होने के कारण टेस्ट सीरीज में नहीं होंगे, लेकिन कोहली जरूर वनडे में खेलने के लिए मौजूद रहेंगे.

दो कप्तानों के बीच नए कोच राहुल द्रविड़ टीम इंडिया को कैसे हैंडल करते हैं यह भी देखने वाली बात होगी. वैसे तराजू मे तौला जाए तो इस पूरे वाकये से रोहित का वज़न बढ़ा है तो कोहली बहुत हद तक हाशिये पर गए हैं. रोहित शर्मा को न सिर्फ टी-20 और ओडीआई की कप्तानी मिली है, बल्कि अब वह भारतीय टेस्ट टीम के भी उप कपतान का ओहदा दिया गया था.

कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कई मैच, सीरीज या टूर्नामेंट स्थगित हो चुके हैं. दक्षिण अफ्रीका में मेजबान बोर्ड ने सीरीज को किसी खतरे से बचाने के लिए मजबूत बायो बबल बनाया हैं. वैसे नस्लभेद के मामले को लेकर वहां की सामाजिक न्याय और राष्ट्र निर्माण आयोग ने खिलाड़ियों को भेदभाव का दोषी पाया है. इसकी लपेट में मौजूदा निदेशक ग्रीम स्मिथ, मौजूदा मुख्य कोच मार्क बाउचर और पूर्व बल्लेबाज एबी डिविलियर्स भी आ गये हैं. इस कारण वहां काफी उथल पुथल है.

उम्मीद की जानी चाहिए कि भारत का यह दौरा इन बलाओं से बचा रहेगा. उधर वेस्ट इंडीज और पाकिस्तान के बीच ओडीआई सीरीज को जून महीने तक टाल दिया गया है, इसे कल से शुरू होना था. वेस्ट इंडीज टीम के कई खिलाड़ियों के पॉजिटिव पाए जाने के बाद यह फैसला लिया गया है.
भारत की दो टीमों को अगले तीन महीनों में अलग-अलग वर्गों के दो वर्ल्ड कप में खेलना है. 23 दिसम्बर से यूएई में अंडर-19 एशिया कप भी खेला जाएगा जिसमें भारतीय टीम का नेतृत्य यश धूल करेंगे. इस टूर्नामेंट में भारत को ग्रुप ए में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और यूएई से खेलना होगा. वेस्टइंडीज में जनवरी-फरवरी में अंडर-19 विश्व कप के बाद न्यूजीलैंड में महिलाओं का 50 ओवरों वाला वर्ल्ड भी खेला जाएगा. भारत को एक बार फिर से पाकिस्तान के साथ भिड़ने का मौका मिलेगा, जिसका मैच छह मार्च को खेला जाएगा.

यह भी तय हो गया है कि अफगानिस्तान की टीम मार्च में भारत के दौरे पर आएगी-जिसमें दोनों देश तीन वनडे मैच खेलेंगे.

इधर भारत के घरेलू क्रिकेट में पंजाब को छह विकेट से हराकर गुजरात ने अंडर-25 का वनडे स्टेट ए टूर्नामेंट जीत लिया है तो, अंडर-19 के कूच बिहार ट्रॉफी में तीन राउंड के मुकाबले हो चुके हैं. चार दिनों के मैच वाले इस टूर्नामेंट के विभिन्न ग्रुप में फिलहाल झारखंड, राजस्थान, महाराष्ट्र, बंगाल, हरियाणा और अरुणाचल प्रदेश टॉप पर हैं. एक पारी में कर्नाटक के विशाल ओनाट ने 290 रन का स्कोर भी किया है. टूर्नामेंट का अगला राउंड 20 दिसम्बर से शुरू होगा.

वैसे जिस टूर्नामेंट में धूम धड़ाका हो रहा है, वह है सीनियर वर्ग का विजय हजारे ट्रॉफी टूर्नामेंट. इसके ग्रुप चरण समाप्त हो चुके हैं और अगला चरण प्री क्वार्टर फाइनल के रूप में परसो शुरू होगा. पिछली चैंपियन मुंबई की टीम का प्रदर्शन काफी खराब रहा और अपने ग्रुप में सबसे नीचे रहते हुए उसे बाहर होना पड़ा. यहां तक कि अंतिम मैच में उसे पांडिचेरी से भी हार झेलनी पड़ी.

रुतुराज गायकवाड़ ने पिछले आईपीएल में जोरदार पारियां खेली थीं और अब विजय हजारे ट्रॉफी में उनके बल्ले ने काफी रन बटोरे हैं. पांच मैचों में चार शतक रुतुराज के बल्ले से निकले और 603 रन बनाकर अब तक टॉप स्कोरर रहे. लेकिन दुर्भाग्य से उनकी टीम महाराष्ट्र नॉकआउट के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी.

इस टूर्नामेंट में खेलने वाले कुछ खिलाड़ियों का चयन दक्षिण अफ्रीका के वनडे दौरे के लिए किया जा सकता है. रुतुराज गायकवाड के अलावा युजवेन्द्र चहल, वेंकटेश अय्यर, ऋषि धवन, वाशिंगटन सुंदर ने भी बढ़िया प्रदर्शन किया है. इसके विपरीत शिखर धवन, संजू सैमसन, सूर्यकुमार यादव, शिवम दूबे और आवेश खान जैसे खिलाड़ियों का प्रदर्शन फीका रहा है.
**
आज के इस पॉडकास्ट मे इतना ही, अगले हफ्ते क्रिकेट जगत की सरगर्मियों को समेटे मैं संजय बैनर्जी आपकी खिदमत मे फिर हाजिर रहूंगा, तब तक चलते रहिए न्यूज़ 18 के साथ, नमस्कार.

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज