Podcast: क्रिकेट में खुशियां अपार, हॉकी-बैडमिंटन में मिली हार, अर्जेंटीना बना विश्व चैंपियन

  • December 7, 2021, 10:14 am

न्‍यूजीलैंड को 372 रनों से करारी शिकस्‍त देने के बाद आईसीसी वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप की अंक तालिका में भारत के 42 अंक हो गए हैं. वहीं, 24 अंकों के साथ श्रीलंका अभी भी नवंबर वन की पोजीशन में बना हुआ है. वानखेड़े स्टेडियम मुंबई में खेले गए टेस्ट मैच में सबसे बड़ा करिश्मा किया मुंबई में ही जन्में कीवी स्पिनर एजाज़ पटेल ने. एजाज़ ने भारत के खिलाफ पहली पारी में सभी 10 विकेट अपने नाम किए. इस जीत के साथ ही भारत अब इस साल सबसे अधिक टेस्ट जीतने वाली टीम भी बन गई है.



नमस्कार….न्यूज़18 हिन्दी पाॅडकास्ट के वीकली स्पोर्ट्स बुलेटिन में आपका स्वागत है. मैं हूं नवीन श्रीवास्तव. शुरूआत भारत-न्यूज़ीलैंड टेस्ट सीरीज़ से….

मुंबई टेस्ट के चौथे ही दिन पहले घंटे के खेल में भारत ने न्यूज़ीलैंड को 372 रनों से करारी शिकस्त देकर दो टेस्ट मैचों की सीरीज़ 1-0 से जीत ली है. रनों के दृष्टि से भारत की यह अब तक की सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले 2015 में दिल्ली में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 337 रनों से हराया था. इसी के साथ न्यूजीलैंड का भारत में सीरीज जीतने का सपना एक बार फिर अधूरा रह गया.

विश्व टेस्ट चंपियनशिप के तहत खेले गए इस टेस्ट को जीतने के साथ ही भारत को 12 अंक हासिल हुए और अब उसके कुल 42 अंक हो गए हैं. आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की अंक तालिका में वर्तमान में श्रीलंका पहले नंबर पर है, क्योंकि उसके परसेंटेज ऑफ प्वॉइंट्स भारत से अधिक हैं. हालांकि कुल अंको के मामले में श्रीलंका भारत से काफी नीचे है, जहां उसके 24 अंक हैं. गौरतलब है कि टीम की रैंकिंग परसेंटेज ऑफ प्वॉइंट्स के हिसाब से तय होगी.

वानखेड़े स्टेडियम मुंबई में खेले गए टेस्ट मैच में भारत ने टाॅस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए अपनी पहली पारी में 325 रन बनाए. पिछले कुछ समय से आउट आफ फॉर्म चल रहे मयंक अग्रवाल ने शानदार वापसी की और 150 रनों की ज़बर्दस्त पारी खेली. दूसरी पारी में भी उन्होंने सबसे अधिक 62 रन बनाए. भारत की पहली पारी 325 रनों के जवाब में न्यूजीलैंड के बल्लेबाज़ों का निराशाजनक प्रदर्शन रहा और उसकी पूरी टीम मात्र 62 रनों पर धराशायी हो गई.

भारत में यह किसी भी टीम का टेस्ट में सबसे कम स्कोर है. भारत की ओर से मोहम्मद सिराज ने घातक गेंदबाज़ी करते हुए न्यूज़ीलैंड के पहले तीनों विकेट चटकाकर भारत को एक शानदार शुरूतात दी. चार विकेट लेकर अश्विन सबसे कामयाब गेंदबाज़ रहे. अक्षर पटेल ने दो और जयंत यादव ने एक विकेट लिया. 263 रनों की मज़बूत बढ़त प्राप्त करने के बाद भारत ने अपनी दूसरी पारी सात विकेट पर 276 रन बनाकर समाप्त घोषित की.

मेहमान टीम को मैच जीतने के लिए 540 रनों का एक विशाल और मुश्किल लक्ष्य मिला. जवाब में लक्ष्य का का पीछा करते हुए न्यूज़ीलैंड की टीम मैच के चौथे दिन पांच विकेट पर 140 रनों से आगे खेलते हुए अपनी दूसरी पारी में सिर्फ 167 रन बनाकर सिमट गई. यानी मैच के चौथे दिन न्यूजीलैंड ने सिर्फ 45 मिनट में ही मात्र 27 रन जोड़कर अपने शेष पांच विकेट गवां दिए. अश्विन और जयंत यादव ने चार-चार विकेट लिए. अक्षर पटेल एक विकेट लेने में सफल रहे.

इस तरह भारत ने मयंक अग्रवाल की शानदार बल्लेबाजी और फिर फिरकी गेंदबाज़ी की घातक गेंदबाज़ी बदौलत इस टेस्ट में न्यूज़ीलैंड को बुरी तरह परास्त किया और उसका भारत में पिछले 65 सालों से चला आ रहा टेस्ट सीरीज़ जीतने का ख्वाब पूरा नहीं हो सका.

इस टेस्ट में सबसे बड़ा करिश्मा किया मुंबई में ही जन्में कीवी स्पिनर एजाज़ पटेल ने. एजाज़ ने भारत के खिलाफ पहली पारी में सभी 10 विकेट अपने नाम किए. इससे पहले ऐसा करिश्मा दुनिया के मात्र दो गेंदबाज़ों, जिम लेकर और अनिल कुंबले ने ही किया है. एजाज ने दूसरी पारी में भी चार विकेट लिए.

भारत ने न्यूजीलैंड से सीरीज जीतने के साथ ही कई नए रिकॉर्ड भी बनाए. रनों के दृष्टि से ये उसकी सबसे बड़ी जीत तो रही ही साथ ही अपने घरेलू मैदान पर पिछले 8 साल से से चला आ रहा उसका वर्चस्व कायम रहा. टीम इंडिया की घरेलू मैदान पर लगातार यह 14वीं टेस्ट सीरीज जीत है. भारत ने 2013 के बाद से अपने घरेलू मैदान पर कोई भी टेस्ट सीरीज नहीं हारी है.

इस जीत के साथ ही भारत अब इस साल सबसे अधिक टेस्ट जीतने वाली टीम भी बन गई. भारत ने मुंबई टेस्ट को मिलाकर इस साल कुल सात मैच जीते हैं, जबकि पाकिस्तान 2021 में 6 टेस्ट जीतने में कामयाब रही है. हालांकि पाकिस्तान के पास भारत की बराबरी करने का मौका है, क्योंकि वह इस समय बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला खेल रहा है. अगर वह इस मैच में जीत जाता है तो इस साल दोनों देशों की टेस्ट जीतने की संख्या बराबर हो जाएगी.

इस जीत के साथ ही विराट कोहली दुनिया के पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं, जो टीम की ओर से तीनों फॉर्मेट में कम से कम 50 जीत में शामिल रहे हैं. विराट कोहली खिलाड़ी के तौर पर 50 टेस्ट, 153 वनडे इंटरनेशनल और 59 टी20 इंटरनेशनल मैच जीत चुके हैं. विराट के अलावा दुनिया का कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं है, जो तीनों फॉर्मेट में कम से कम 50 जीत का साक्षी रहा हो.

भारत के आर अश्विन ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है. मुंबई टेस्ट में अपनी आठवीं विकेट लेने के साथ ही अश्विन का भारत में ये 300वां टेस्ट विकेट था, उनसे पहले ये उपलब्धि विश्व के केवल तीन गेंदबाज़ ही हासिल पाए हैं. भारत के घरेलू मैदान पर 300 विकेट लेने वाले अश्विन दूसरे गेंदबाज हैं. अश्विन ने भारत में खेले अपने 49वें टेस्ट मैच में यह उपलब्धि हासिल की.

अपने देश में ही सबसे अधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड मुथैया मुरलीधरन के नाम है. मुरलीधरन ने श्रीलंका में कुल 493 टेस्ट विकेट झटके हैं. इंग्लैंड में जेम्स एंडरसन ने 402 विकेट लिए हैं. इन दोनों के अलावा दुनिया का कोई और ऐसा गेंदबाज नहीं है, जिसने अपने घरेलू मैदानों पर 400 से अधिक विकेट लिए हों. 63 टेस्ट मैचों में 350 विकेट के साथ अनिल कुंबले तीसरे नंबर पर हैं.

मुंबई में अश्विन ने एक और रिकाॅर्ड बनाया. टेस्ट क्रिकेट में एक साल में चैथी बार उन्होंने 50 या उससे अधिक विकेट लिए हैं. अश्विन ने इससे पहले 2015, 2016 और 2017 में टेस्ट क्रिकेट में 50 या उससे अधिक विकेट लिए थे. अश्विन से पहले कुंबले ने तीन बार और कपिल देव ने दो बार ऐसा किया था.

भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका दौरे पर तीन टेस्ट और तीन वनडे मैच ही खेलेगी. सीरीज की शुरुआत अब 26 दिसंबर से होगी. पहले यह दौरा 17 दिसंबर से शुरू होना था. दक्षिण अफ्रीका दौरे पर भारत को चार मैचों की टी20 सीरीज भी खेलनी थी, लेकिन इसे अभी स्थिगित किया गया है और बाद में ही इसके लिए नई तारीखें तय की जाएंगी. यह निर्णय शनिवार को कोलकाता में हुई बीसीसीआई की आम सभा की 90वीं सालाना बैठक में लिया गया. इसमें कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन के प्रसार के बीच भारतीय क्रिकेट टीम के आगामी दक्षिण अफ्रीका दौरे पर फैसला लिया गया.

भारत के घरेलू वनडे टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी 2021-22 की शुरुआत 8 दिसंबर से होगी.
19 दिनों तक चलने वाले इस टूर्नामेंट के पांचों एलीट ग्रुप ए, बी, सी, डी और ई में 6-6 टीमों को रखा गया है. इसके अलावा 8 टीमें प्लेट ग्रुप में शामिल हैं. ग्रुप स्टेज के मुकाबले 8, 9, 11,12 और 14 दिसंबर को होंगे. खिताबी मुकाबला 26 दिसंबर को खेला जाएगा.
और अब कुछ संक्षिप्त खेल समाचार…..

एफआईएच जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में गत चैंपियन भारत ब्रॉन्ज मेडल भी नहीं जीत सका. ब्रॉन्ज मेडल के प्लेऑफ में फ्रांस ने भारत को 3-1 से हराया. अर्जेंटीना ने जर्मनी को हराकर विश्व चैंपियन होने का रुतबा हासिल किया. उसने यह खिताब तीसरी बार जीता है.

भारत की पीवी सिंधु को बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर में सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा. रविवार को खिताबी मुकाबले में दक्षिण कोरिया की आन सियोंग ने सिंधु को आसानी से सीधे गेमों में 21-16 और 21-12 से हराया.

रविवार को को खेले गए एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के अपने पहले मैच में भारतीय महिला हॉकी टीम ने थाईलैंड को 13-0 से करारी शिकस्त दी. ड्रैग फ्लिकर गुरजीत कौर ने सबसे अधिक पांच गोल दाग़े.

दुनिया की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी भारत की साइना नेहवाल पहली बार चोट के कारण वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगी. वर्ल्ड चैंपियनशिप स्पेन में 12 से 19 दिसंबर तक खेली जाएगी.

और अंत में चार देशों के टूर्नामेंट के आखिरी मैच में भारतीय महिला फुटबॉल टीम को वेनेजुएला ने 2-1 से हराया. यह भारत की लगातार तीसरी हार थी.

न्यूज़ 18 हिन्दी पाॅडकास्ट के साप्ताहिक स्पेशल स्पोर्ट्स बुलेटिन में आज इतना ही. ताजतरीन खेल खबरों के साथ हम फिर हाज़िर होंगे. तब के लिए नवीन श्रीवास्तव को इजाज़त दीजिए. नमस्कार.

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज