PODCAST: IND Vs NZ सिरीज के नतीजों ने किया टीम इंडिया को आगाह!

  • December 3, 2022, 5:36 PM

सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों को समेटे मैं हाजिर हूँ, इस पॉडकास्ट में, संजय बैनर्जी का नमस्कार- सुनो दिल से. न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ वनडे सीरीज जीतकर एक बार फिर से भारत को अगले विश्वकप से पहले आगाह किया है. यह सही है कि बारिश के कारण सीरीज बेमजा रही और तीन मैचों की सीरीज मेजबान ने 1-0 की बढ़त से जीत ली, लेकिन जिस तरह का प्रदर्शन भारतीय खिलाड़ियों ने किया है उससे भारतीय क्रिकेट के चाहने वालों की हौसला अफ़साई नही होती. खिलाड़ियों का टीम में चयन और बैटिंग ऑर्डर में लगातार उथल-पुथल बताता है कि भारत का नजरिया अगले विश्वकप को लेकर अभी साफ नही है.



बारिश न केवल टी20 में बल्कि वनडे सीरीज में भी कहर बनकर उतरी. बारिश के कारण दूसरा और तीसरा मैच अधूरा छूटा. पहले मैच में न्यूजीलैंड ने भारत को बड़े स्कोर के मुकाबले में आसानी से सात विकेट से शिकस्त दी थी. इस हार ने भारतीय बैटिंग ऑर्डर की कमियां उजागर की, तो दूसरी ओर भारतीय गेंदबाजों की कलई भी खोल दी.

पिछले कुछ सालों से भारत की बेंच मजबूत मानी जा रही थी, पर एक फिर यह साबित हो गया कि इस बैकअप में जान नहीं है. यही वजह रही कि 306 का स्कोर खड़ा करने के बावजूद न्यूजीलैंड ने पहले मैच में भारत को 17 गेंद बाकी रहते हुए आसानी से हरा दिया. टॉम लैथम ने नाबाद 145 रन की पारी खेली तो उनके कप्तान केन विलियमसन ने अविजीत 94 रन बना डाले.

गनीमत थी कि दूसरे और तीसरे वनडे में न्यूजीलैंड को ज्यादा बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला वरना जो हालात थे, उससे न्यूजीलैंड की टीम सीरीज एकतरफा भी जीत सकती थी. क्राइस्टचर्च के तीसरे मैच में अगर सिर्फ दो ओवर और हो जाते तो डकवर्थ लुईस मैथड में न्यूजीलैंड को जीत मिल जाती.

कप्तान के रूप मे शिखर धवन फ्रन्ट से लीड नहीं कर पा रहे हैं. सूर्यकुमार यादव, ऋषभ पंत और संजू सैमसन को लेकर न जाने कितने सवाल खड़े किए जा रहे हैं. ऋषभ पंत चल नही रहे, फिर भी लगातार टीम में हैं. जबरन पंत को वाइट बॉल क्रिकेट में शामिल करने की जिद ने पहले रिद्धिमान साहा को टीम से बाहर करवाया, उसके बाद ईशान किशन इस पोजीशन पर अपना स्थान खो बैठे और अब संजू सैमसन किसी भी तरह से टीम में शामिल नही हो पा रहे हैं.

भरत श्रीकर के अलावा उपेंद्र यादव जैसे उभरते नाम भी क्या महज अपनी बारी का इंतज़ार करते रह जाएंगे. न्यूजीलैंड सीरीज में सूर्यकुमार यादव भी नहीं चल पाए, वनडे सीरीज में उनका योगदान सिर्फ 4, 34 और 6 रन का रहा है. पिछली सात वनडे पारियों में सूर्य कभी भी 30 रन से आगे नहीं जा सके हैं. स्काई के क्रम को लेकर लगातार उठापटक जारी है, कभी वन डाउन और कभी निचले क्रम मे.

नंबर चार पर अगर उनको टिकने नहीं दिया गया तो एक भरोसेमंद बल्लेबाज अपनी लय खो सकता है. संजू सैमसन ने पहले वनडे में 36 रन बनाये, लेकिन बाकी दोनों मैचों में उन्हें मौका नहीं मिला.

शुभमन गिल और श्रेयस अय्यर ने जरूर प्रभावित किया. अय्यर न्यूज़ीलैंड में पिछली सीरीज से ही अच्छा खेल रहे हैं. पांच में से चार पारियों मे उन्होंने अर्धशतक जमाया है जबकि क्राइस्टचर्च के तीसरे मैच में सिर्फ एक रन पीछे रह गए. वाशिंगटन सुंदर ने भी एक ऑलराउंडर के तौर पर अपनी उपयोगिता साबित की है.

गेंदबाजी मे अर्शदीप सिंह और उमरान मलिक की मौजूदगी के बावजूद धार नही दिखती. दोनों का डेब्यू तो हो गया है, लेकिन एक टीम के रूप मे बॉलिंग अब भी बेमजा है.

फिलहाल रविवार से बांग्लादेश में तीन मैचों की वनडे सीरीज शुरू हो रही है और इसमें रोहित शर्मा, विराट कोहली और लोकेश राहुल भी शामिल होंगे. इस सीरीज में भारतीय टीम 30 अंक जुटा सकती है, जो वर्ल्ड कप के लिए जारी सुपर लीग में भारत को शीर्ष पर और मजबूत करेगी. इसके बाद बांग्लादेश में दो टेस्ट मैच भी खेले जाएंगे.

बांग्लादेश वनडे सीरीज में पारी की शुरुआत के रोहित शर्मा के अलावा केएल राहुल, शिखर धवन, ऋषभ पंत और ईशान किशन भी दावेदार है. रोहित के साथ शिखर हो सकते हैं लेकिन न्यूजीलैंड में उन्होंने पहले मैच के अलावा कोई असर नहीं छोड़ा. सीरीज में रजत पाटीदार, राहुल त्रिपाठी, शाहबाज अहमद, वाशिंगटन सुंदर, मोहम्मद सिराज, कुलदीप सेन और दीपक चाहर को नजरअंदाज किया गया है. भारत 2015 में बांग्लादेश से आखिरी सीरीज हार गया था.

भारत ए की टीम भी इन दिनों बांग्लादेश के दौरे पर है. चार दिनों वाले दो मैचों की सीरीज में भारत ए का पलड़ा पहले मैच के तीसरे दिन तक भारी रहा है. कॉक्स बाजार में चल रहे पहले अनऑफिशियल टेस्ट का आज आखिरी दिन है और उम्मीद है कि यह मुकाबला भारत ए टीम के पक्ष में जाएगा. यशस्वी जायसवाल ने और कप्तान अभिमन्यु ईश्वर ने शतकीय पारी खेली. आखिरी चार दिवसीय मैच छह दिसंबर से खेला जाएगा.

अंडर 19 मे मुंबई मे भारतीय महिला टीम ने न्यूजीलैंड के खिलाफ़ पांच मैचों की सीरीज मे 3-0 की बढ़त ले ली है. चौथा मैच चार और पांचवा मैच छह दिसंबर को खेला जाएगा. कप्तान श्वेता सेहरावत, उपकप्तान सौम्या तिवारी के अलावा जी तृषा ने बल्लेबाजी में जबकि हरली गाला, सोनम यादव और अर्चना देवी ने गेंदबाजी में प्रभावित किया है. अगले महीने दक्षिण अफ्रीका में होने वाले अंडर-19 महिला वर्ल्ड कप के मद्देनजर यह सीरीज हो रही है.

और अंत में डोमेस्टिक क्रिकेट

इंडिया डी टीम ने चार टीमों की सीनियर महिला टी 20 चैलेंजर टूर्नामेंट पर अपना कब्जा जमा लिया है. रायपुर में खेले गए डे नाइट फाइनल मुकाबले में इंडिया डी ने इंडिया ए को सात विकेट से हराया. इंडिया डी के लिए जहां यास्तिका भाटिया ने नाबाद 80 रन बनाए वही इंडिया ए के लिए हरलीन देओल ने 61और नुजहत परवीन ने 50 रन जोड़े.

कल से शुरू हुए अंडर 16 विजय मर्चेंट ट्रॉफी टूर्नामेंट के पहले दिन कुछ दिलचस्प प्रदर्शन देखने को मिले. जहां बड़ौदा ने नगालैंड के खिलाफ हैदराबाद में खेलते हुए पहले ही दिन चार विकेट पर 632 रन बना डाले वहीं मुंबई ने मिजोरम के खिलाफ भिलाई में सिर्फ एक विकेट खोकर 583 रन का स्कोर खड़ा कर लिया.

अंडर 25 स्टेट ट्रॉफी वनडे टूर्नामेंट का ग्रुप चरण कल समाप्त हो गया. सात राउंड के मुकाबलों के बाद सौराष्ट्र, मुंबई, बंगाल, हिमाचल प्रदेश और गुजरात अपने ग्रुप में टॉप पर रहे. अब रविवार से नॉकआउट मुकाबले खेले जाएंगे.

मल्टी डेज के अंडर-19 कूच बिहार ट्रॉफी का पांचवां और आखिरी चरण तीन दिसंबर से शुरू होगा. इस बीच चौथे राउंड के मुकाबले में विदर्भ के दानिश मालेवार ने और तमिलनाडु के मोहम्मद अली ने तीसरा शतक जमाया. बिहार के खिलाफ दानिश ने नाबाद 300 रन बनाकर टूर्नामेंट में अब तक तीन शतक बनाए हैं जबकि सबसे ज्यादा चार शतक आंध्र प्रदेश के रेवंत रेड्डी के नाम है.

घरेलू क्रिकेट का प्रतिष्ठित वनडे टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी का फाइनल मुकाबला आज सौराष्ट्र और महाराष्ट्र के बीच अहमदाबाद में खेला जा रहा है. इस टूर्नामेंट के नॉकआउट मुकाबले में रुतुराज गायकवाड और रियान पराग की जबरदस्त बल्लेबाजी देखने को मिली. रुतुराज ने लगातर दो शतक जमाए उन्होंने उत्तर प्रदेश के खिलाफ नाबाद 220 रनों की पारी खेली, जो लिस्ट ए क्रिकेट में नया विश्व रिकॉर्ड है.

इस दौरान उन्होंने 16 छक्के भी लगाए. लेकिन असली बात यह रही कि उन्होंने उत्तर प्रदेश के गेंदबाज शिवा सिंह के एक ओवर में सात छक्के जड़े. इसमें नो बॉल के जरिए फ्री हिट पर लगाया गया छक्का भी शामिल है. सेमीफाइनल मुकाबले में भी रुतुराज ने असम के खिलाफ भी 168 रन बनाये थे. उनके साथ अंकित बावने ने भी शतक ठोका था.

इस तरह रुतुराज गायकवाड और अंकित बावने ने विजय हजारे ट्रॉफी में सबसे ज्यादा 11 शतक जड़ने के रोबिन उथप्पा के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली. एक अन्य मैच में जम्मू कश्मीर के खिलाफ असम के रियान पराग ने 12 छक्कों की मदद से 170 रन बनाए, लेकिन वह अपनी टीम को सेमीफाइनल में महाराष्ट्र के विरुद्ध 12 रन की हर टाल नहीं सके. अब देखना है की आज महाराष्ट्र पहली बार खिताब जीतता है या सौराष्ट दूसरी बार चैंपियन का सेहरा बांधता है.

यह था, सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों पर आधारित पॉडकास्ट-सुनो दिल से. संजय बैनर्जी को अनुमति दीजिए नमस्कार.