भैयाजी कहिन: क्या रोहिंग्या देश के लिए ख़तरा हैं?

September 19, 2017, 10:33 pm

म्यान्मार के रखाइन (अराकान) में बसने वाले अल्पसंख्यक सदियों पहले अराकान के मुग़ल शासकों ने बसाया था. 1785 में बर्मा के बौद्ध लोगों ने अराकान पर क़ब्ज़ा किया. बौद्ध लोगों ने रोहिंग्या को अराकान से खदेड़ दिया. म्यान्मार में रोहिंग्या अवैध बांग्लादेशी प्रवासी भी कहे जाते हैं. अनुमान के मुताबिक़ म्यान्मार में 10 लाख रोहिंग्या मुसलमान. म्यान्मार सरकार रोहिंग्या को अपना नागरिक नहीं मानती. म्यान्मार की सरकार ने नागरिकता देने से इनकार किया. म्यान्मार में रोहिंग्या मुसलमान पीढ़ियों से रह रहे हैं 1982 में रोहिंग्या की नागरिकता ख़त्म कर दी गई. म्यान्मार के रखाइन में 2012 से सांप्रदायिक हिंसा जारी हिंसा में कई लोगों की जान गई, एक लाख से ज़्यादा विस्थापित.बड़ी संख्या में रोहिंग्या मुसलमान जर्जर शिविरों में रह रहे हैं.

news18 hindi
Latest Live TV Switch to Regional Shows

LIVE Now

    Loading...