VIDEO: आसमान में उड़ने वाले यहां चुगते हैं दाना

OMG03:26 PM IST Oct 12, 2017

मध्य प्रदेश के मालवा जिले में एक शख्स ऐसा काम कर रहा है, जो युवाओं के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है. ये युवक कई सालों से हजारों परिंदों का पेट भर रहा है. मालवा के अमित जैन और उनके साथी परिंदों के दाने खिलाते हैं. अमित और इनके साथियों का यह डेली रुटीन है कि वो रोज सुबह अपनी छत पर बेजुबान परिंदों के दावत का इंतजाम करते हैं. 20 साल पहले शुरु किए गए पिता मनोहर लाल जैन की पहल को आगे बढ़ाते हुए अमित जैन अपने साथियों के साथ मिलकर रोज पक्षियों के खाने का इंतजाम करते हैं. आज जब सरकार से लेकर सेलिब्रिटी तक बाघों को बचाने का मिशन में जुटे हैं, ये लोग हवा में उड़ते परिंदों को बचाने में लगे हुए हैं. अमित की पक्षियों का पेट भरने की इस मुहिम में कई और लोग भी जुड़े हुए हैं. इतने सालों तक पछियों को दाना डालने की वजह से इनके और परिंदों के बीच काफी अच्छी अंडरस्टैंडिंग बन गई है. पक्षी सुबह-सुबह दाना डाले जाने का इंतजार करते हैं और जैसी ही दाना डाले जाने का काम पूरा होता है. सारे मिलकर दानों पर टूट पड़ते हैं. देखते ही देखते ये पक्षी एक क्विंटल से ज्यादा दाना सफाचट कर जाते हैं. अमित ने बताया कि पक्षियों के खाने-पीने में हार साल लगभग दो लाख रुपये से ज्यादा का खर्च आता है.

news18 hindi

मध्य प्रदेश के मालवा जिले में एक शख्स ऐसा काम कर रहा है, जो युवाओं के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है. ये युवक कई सालों से हजारों परिंदों का पेट भर रहा है. मालवा के अमित जैन और उनके साथी परिंदों के दाने खिलाते हैं. अमित और इनके साथियों का यह डेली रुटीन है कि वो रोज सुबह अपनी छत पर बेजुबान परिंदों के दावत का इंतजाम करते हैं. 20 साल पहले शुरु किए गए पिता मनोहर लाल जैन की पहल को आगे बढ़ाते हुए अमित जैन अपने साथियों के साथ मिलकर रोज पक्षियों के खाने का इंतजाम करते हैं. आज जब सरकार से लेकर सेलिब्रिटी तक बाघों को बचाने का मिशन में जुटे हैं, ये लोग हवा में उड़ते परिंदों को बचाने में लगे हुए हैं. अमित की पक्षियों का पेट भरने की इस मुहिम में कई और लोग भी जुड़े हुए हैं. इतने सालों तक पछियों को दाना डालने की वजह से इनके और परिंदों के बीच काफी अच्छी अंडरस्टैंडिंग बन गई है. पक्षी सुबह-सुबह दाना डाले जाने का इंतजार करते हैं और जैसी ही दाना डाले जाने का काम पूरा होता है. सारे मिलकर दानों पर टूट पड़ते हैं. देखते ही देखते ये पक्षी एक क्विंटल से ज्यादा दाना सफाचट कर जाते हैं. अमित ने बताया कि पक्षियों के खाने-पीने में हार साल लगभग दो लाख रुपये से ज्यादा का खर्च आता है.

Latest Live TV