VIDEO: रक्षाबंधन के दूसरे दिन धूमधाम से मनाया गया 'भोजली पर्व'

कवर्धा02:50 PM IST Aug 28, 2018

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में बीते सोमवार को प्रदेश का परम्परागत त्योहार भोजली बड़े ही धूमधाम से मनाया गया. बता दें कि छत्तीसगढ़ में रक्षाबंधन के दूसरे दिन मनाए जाने वाले इस त्योहार को प्रदेश का मित्रता दिवस भी कहते हैं. राजमहल में भोजली पर्व को लेकर विशेष आयोजन किया जाता है. नगर की महिलाएं सिर में भोजली रखकर राजमहल पहुंचती हैं, जहां पर पूर्व राजपरिवार के सदस्य भोजली की पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करती हैं. इसके बाद महल के पास बने भोजली तालाब में इसे विसर्जन कर दिया जाता है. महल में भोजली पर्व मनाने की परम्परा सन् 1730 से चली आ रही है, जो आज भी कायम है. कवर्धा राजपरिवार की पूर्व महारानी कृतिदेवी सिंह, अपने बेटे राजकुमार मैखलेश्वराज सिंह के साथ महल परिसर में मौजूद रहती हैं, जो आने वाले लोगों से मुलाकात करती हैं और उनका अभिवादन स्वीकार करती हैं. इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहते हैं.

Manas Mishra

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में बीते सोमवार को प्रदेश का परम्परागत त्योहार भोजली बड़े ही धूमधाम से मनाया गया. बता दें कि छत्तीसगढ़ में रक्षाबंधन के दूसरे दिन मनाए जाने वाले इस त्योहार को प्रदेश का मित्रता दिवस भी कहते हैं. राजमहल में भोजली पर्व को लेकर विशेष आयोजन किया जाता है. नगर की महिलाएं सिर में भोजली रखकर राजमहल पहुंचती हैं, जहां पर पूर्व राजपरिवार के सदस्य भोजली की पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करती हैं. इसके बाद महल के पास बने भोजली तालाब में इसे विसर्जन कर दिया जाता है. महल में भोजली पर्व मनाने की परम्परा सन् 1730 से चली आ रही है, जो आज भी कायम है. कवर्धा राजपरिवार की पूर्व महारानी कृतिदेवी सिंह, अपने बेटे राजकुमार मैखलेश्वराज सिंह के साथ महल परिसर में मौजूद रहती हैं, जो आने वाले लोगों से मुलाकात करती हैं और उनका अभिवादन स्वीकार करती हैं. इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहते हैं.

Latest Live TV