VIDEO: दर-दर की ठोकरें खाने के लिए मजबूर है यह पदकवीर

छत्तीसगढ़04:10 PM IST Sep 11, 2018

हौसला और लगन के दम पर खेल के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ देख का नाम इंटरनेशनल स्तर पर लोहा मनवाने वाले आर्म रेसलर (पंजा लड़ाई) श्रीमंत झा सरकारी सहायता के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं. श्रीमंत कजाखस्तान, पोलेंड, हंगरी सहित कई देशों में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं और देश के लिए मेडल जीत चुके हैं. श्रीमंद झा के एक हाथ के पंजे की उंगलिया नहीं है फिर भी उन्होंने कई देशों के खिलाड़ियो को शिकस्त दी है. सरकार ने खेल नीतियां तो बना ली, लेकिन ऐसे प्रतिभावान खिलाड़ियों की मदद करने के लिए न तो सरकार के हाथ आगे बढ़ रह हैं और न ही खेल विभाग के. श्रीमंत का कहना है कि अगर सरकार सहायता और सुविधा प्रदान करें तो वे ओलंपिक में देश के लिए गोल्ड जीत सकते हैं.

Yugal Tiwari

हौसला और लगन के दम पर खेल के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ देख का नाम इंटरनेशनल स्तर पर लोहा मनवाने वाले आर्म रेसलर (पंजा लड़ाई) श्रीमंत झा सरकारी सहायता के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं. श्रीमंत कजाखस्तान, पोलेंड, हंगरी सहित कई देशों में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं और देश के लिए मेडल जीत चुके हैं. श्रीमंद झा के एक हाथ के पंजे की उंगलिया नहीं है फिर भी उन्होंने कई देशों के खिलाड़ियो को शिकस्त दी है. सरकार ने खेल नीतियां तो बना ली, लेकिन ऐसे प्रतिभावान खिलाड़ियों की मदद करने के लिए न तो सरकार के हाथ आगे बढ़ रह हैं और न ही खेल विभाग के. श्रीमंत का कहना है कि अगर सरकार सहायता और सुविधा प्रदान करें तो वे ओलंपिक में देश के लिए गोल्ड जीत सकते हैं.

Latest Live TV