VIDEO: बरकरार है झीरम हमले का दर्द...6 साल बाद भी नहीं मिला इन्हें न्याय

छत्तीसगढ़06:40 PM IST May 25, 2019

छत्तीसगढ़ में माओवादी घटनाक्रम के काले दिनों में से एक 25 मई 2013 की घटना में पीड़ितों को आज भी इंसाफ का इंतजार है. हैरानी की बात यह है कि जिस घटना में कांग्रेस के आला नेताओं सहित कुल 32 लोगों की हत्या हुई. उसमें पांच-पांच जांच कमेटियां बनी लेकिन नतीजा शून्य के जैसा ही रहा. न्यूज़ 18 से बात करते हुए घटना के पीड़ित शिव सिंह ठाकुर जिन के बदन में आज भी माओवादियों के गोलियों के छर्रे मौजूद है. उन्होने कहा कि इंसाफ का इंतजार लंबे समय से है. सभी पीड़ित चाहते हैं कि घटना के गुनेहगारों का राज फाश हो. वहीं इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी और पीड़ित दौलत रोहड़ा को आज भी इंसाफ का इंतजार है. न्यूज़ 18 से बात करते हुए दौलत रोहड़ा ने कहा कि बीजेपी की पूर्ववर्ती सरकार ने जांच में लीपापोती की है. अब उन्हें उम्मीद हैं कि जल्द ही समस्त पीड़ित परिवारों को इंसाफ मिलेगा.

Awadhesh Mishra

छत्तीसगढ़ में माओवादी घटनाक्रम के काले दिनों में से एक 25 मई 2013 की घटना में पीड़ितों को आज भी इंसाफ का इंतजार है. हैरानी की बात यह है कि जिस घटना में कांग्रेस के आला नेताओं सहित कुल 32 लोगों की हत्या हुई. उसमें पांच-पांच जांच कमेटियां बनी लेकिन नतीजा शून्य के जैसा ही रहा. न्यूज़ 18 से बात करते हुए घटना के पीड़ित शिव सिंह ठाकुर जिन के बदन में आज भी माओवादियों के गोलियों के छर्रे मौजूद है. उन्होने कहा कि इंसाफ का इंतजार लंबे समय से है. सभी पीड़ित चाहते हैं कि घटना के गुनेहगारों का राज फाश हो. वहीं इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी और पीड़ित दौलत रोहड़ा को आज भी इंसाफ का इंतजार है. न्यूज़ 18 से बात करते हुए दौलत रोहड़ा ने कहा कि बीजेपी की पूर्ववर्ती सरकार ने जांच में लीपापोती की है. अब उन्हें उम्मीद हैं कि जल्द ही समस्त पीड़ित परिवारों को इंसाफ मिलेगा.

Latest Live TV