अपना शहर चुनें

States

होम » वीडियो

बंगला-बगीचा समस्या के समाधान के लिए खुला दस्तावेजों का पिटारा

मध्य प्रदेश ETV MP/Chhattisgarh| July 29, 2015, 2:47 PM IST

मध्यप्रदेश के नीमच शहर की 60 फीसदी आबादी वाले बंगला-बगीचा क्षेत्र से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेजों का पिटारा प्रशासन के अफसरों की निगरानी में खोला गया. इन दस्तावेजों को पिछले तीन वर्षों से तत्कालीन कलेक्टर के आदेश पर नगर पालिका कार्यालय की एक अलमारी में सील बंद किया गया था. नीमच में बंगला-बगीचा समस्या क़रीब चार दशक से चली आ रही है. जानकारी के अनुसार, अंग्रेज अफसरों के नीमच में 60 बंगले, 53 बगीचे और 56 खेत थे. इनमें बंगले का क्षेत्र न्यूनतम 10 बीघा से बड़ा तो खेत और बगीचों का क्षेत्र इससे भी अधिक था. आजादी के बाद अंग्रेज भारत छोड़कर गए तो सेवादारों को बंगले- बगीचे सौंपे गए. समय बीतने के साथ ही उन्हीं बंगलों-बगीचों में में छोटे-छोटे प्लॉट कट गए. इसके बाद ज़मीन के मालिकाना हक़ को लेकर विवाद शुरू हुआ. ऐसे में नगर पालिका ने सरकारी तौर पर इन विवादित जमीनों को अपना माना. हकदारों का कहना भूमि के वे स्वामी हैं. कुछ साल पहले जिला प्रशासन ने क्षेत्र की जमीनों की रजिस्ट्री पर रोक लगा दी थी. तब से समस्या बढ़ती जा रही है.

News18india.com
First published: July 29, 2015, 2:45 PM IST
Latest Live TV

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज