VIDEO : खराब मौसम के कारण पांगी, बारिंग व सितंगरी की हेलीकॉप्टर की उड़ानें रद्द

केलांग10:45 PM IST Feb 17, 2019

जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति के लोगों के लिए सर्दियों के दिनों की लाइफ लाइन कहे जाने वाले हेलीकॉप्टर सेवा का लाभ लोगों को समय पर नहीं मिल पा रहा है. शेष दुनिया से जुड़ने का एक मात्र विकल्प हेलीकॉप्टर सेवा का लाभ लेने के लिए आपातकालीन परिस्थिति से गुजर रहे सैकड़ों लोग भी डेढ़ महीने से अपने बारी का इन्तजार कर रहे हैं. खराब मौसम के कारण पांगी, बारिंग व सितंगरी की हेलीकॉप्टर उड़ान रद्द करनी पड़ीं. खराब मौसम को देखकर ही घाटी के लिए कराई जा रही हेलीकाप्टर उड़ान नहीं हुईं. लोगों ने घाटी के लिए पर्याप्त हेलीकाप्टर उड़ान कराने की सरकार से मांग की है. सितंगरी, उदयपुर व डाइट हेलीपेड में अतिरिक्त उड़ान सुनिश्चित करने की मांग उठाई. घाटी में नियमित व पर्याप्त उड़ान नहीं कराने पर लोगों में सरकार के प्रति भारी रोष है. साक्षात्कार, परीक्षा, बीमारी, मेडिकल चेकऑप, डिलिवरी जैसे सैकड़ों लोगों को भारी दिक्कत का करना पड़ रहा है. प्रभावित लोगों को बुकिंग कार्यालय व हेलीपेड के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. डेढ़ महीने से आवेदन करने के बावजूद दर्जन भर कर्मचारियों का नम्बर हेलीकाप्टर में नहीं लग रहा है. सिर्फ एक दो उड़ान हो रही हैं. उनमें भी संबंधित अधिकारी हर बार पेशेंट व एमरजेंसी का हवाला दे कर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं.

Prem

जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति के लोगों के लिए सर्दियों के दिनों की लाइफ लाइन कहे जाने वाले हेलीकॉप्टर सेवा का लाभ लोगों को समय पर नहीं मिल पा रहा है. शेष दुनिया से जुड़ने का एक मात्र विकल्प हेलीकॉप्टर सेवा का लाभ लेने के लिए आपातकालीन परिस्थिति से गुजर रहे सैकड़ों लोग भी डेढ़ महीने से अपने बारी का इन्तजार कर रहे हैं. खराब मौसम के कारण पांगी, बारिंग व सितंगरी की हेलीकॉप्टर उड़ान रद्द करनी पड़ीं. खराब मौसम को देखकर ही घाटी के लिए कराई जा रही हेलीकाप्टर उड़ान नहीं हुईं. लोगों ने घाटी के लिए पर्याप्त हेलीकाप्टर उड़ान कराने की सरकार से मांग की है. सितंगरी, उदयपुर व डाइट हेलीपेड में अतिरिक्त उड़ान सुनिश्चित करने की मांग उठाई. घाटी में नियमित व पर्याप्त उड़ान नहीं कराने पर लोगों में सरकार के प्रति भारी रोष है. साक्षात्कार, परीक्षा, बीमारी, मेडिकल चेकऑप, डिलिवरी जैसे सैकड़ों लोगों को भारी दिक्कत का करना पड़ रहा है. प्रभावित लोगों को बुकिंग कार्यालय व हेलीपेड के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. डेढ़ महीने से आवेदन करने के बावजूद दर्जन भर कर्मचारियों का नम्बर हेलीकाप्टर में नहीं लग रहा है. सिर्फ एक दो उड़ान हो रही हैं. उनमें भी संबंधित अधिकारी हर बार पेशेंट व एमरजेंसी का हवाला दे कर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं.

Latest Live TV