होम » वीडियो » हरियाणा

VIDEO : बच्चों का भविष्य बर्बाद करने वाले स्कूल में अभिभावकों ने की तोड़फोड़, प्रबंधक की पिटाई

यमुनानगर News18 Haryana| March 16, 2019, 10:51 PM IST

यमुनानगर में बिना मान्यता के चल रहे स्प्रिंग डेल पब्लिक स्कूल का मामला शनिवार को फिर गरमा गया. परिजनों ने स्कूल मैनेजमेंट के लोगों को जमकर पीटा और स्कूल में तोड़फोड़ करने के बाद मैनेजमेंट के एक अधिकारी को पैदल ही बाजार के बीच में लेकर चले. आरोप है कि स्कूल बिना मान्यता के ही बच्चों की दसवी कक्षा के पेपर दिलवा रहा था. इस बार फार्म तो भरवाए पर 35 बच्चे परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए. मामला कोर्ट में गया और कोर्ट ने स्कूल के पक्ष की याचिका खारिज कर दी. यह स्कूल किसी दूसरे मान्यता प्राप्त स्कूल से अपने यहां दाखिले लेकर बच्चों को पेपर दिलाता था. इस बार दूसरे स्कूल में भी पेपर नहीं दिलाए. बच्चों के आक्रोशित अभिभावकों ने आज अपना सारा गुस्सा स्कूल प्रबंधन व स्टाफ पर निकाल लिया. अभिभावकों का कहना था कि पोल खुलने पर भी स्कूल प्रबंधन उनके बच्चों की टीसी नहीं दे रहा जिससे वह किसी और स्कूल में उनका दाखिला दिला सकें. नौवी कक्षा से दसवीं कक्षा में आए बच्चों ने टीसी मांगी थी. जिन 10वीं के 35 का भविष्य स्कूल ने चौपट कर दिया, उनको ओपन स्कूल से पेपर दिलाने की बात प्रबंधन कह रहा है. इस दौरान पुलिस मूक दर्शक बनी रही. बाद में आलाधिकारियों ने मौके पर पहुंच पर मामले को शांत करवाया. बिना मान्यता के बोर्ड परीक्षा के फार्म भरवाकर यह स्कूल अब पूरी तरह फंस चुका है.

Tilak Bhardwaj
First published: March 16, 2019, 10:51 PM IST

यमुनानगर में बिना मान्यता के चल रहे स्प्रिंग डेल पब्लिक स्कूल का मामला शनिवार को फिर गरमा गया. परिजनों ने स्कूल मैनेजमेंट के लोगों को जमकर पीटा और स्कूल में तोड़फोड़ करने के बाद मैनेजमेंट के एक अधिकारी को पैदल ही बाजार के बीच में लेकर चले. आरोप है कि स्कूल बिना मान्यता के ही बच्चों की दसवी कक्षा के पेपर दिलवा रहा था. इस बार फार्म तो भरवाए पर 35 बच्चे परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए. मामला कोर्ट में गया और कोर्ट ने स्कूल के पक्ष की याचिका खारिज कर दी. यह स्कूल किसी दूसरे मान्यता प्राप्त स्कूल से अपने यहां दाखिले लेकर बच्चों को पेपर दिलाता था. इस बार दूसरे स्कूल में भी पेपर नहीं दिलाए. बच्चों के आक्रोशित अभिभावकों ने आज अपना सारा गुस्सा स्कूल प्रबंधन व स्टाफ पर निकाल लिया. अभिभावकों का कहना था कि पोल खुलने पर भी स्कूल प्रबंधन उनके बच्चों की टीसी नहीं दे रहा जिससे वह किसी और स्कूल में उनका दाखिला दिला सकें. नौवी कक्षा से दसवीं कक्षा में आए बच्चों ने टीसी मांगी थी. जिन 10वीं के 35 का भविष्य स्कूल ने चौपट कर दिया, उनको ओपन स्कूल से पेपर दिलाने की बात प्रबंधन कह रहा है. इस दौरान पुलिस मूक दर्शक बनी रही. बाद में आलाधिकारियों ने मौके पर पहुंच पर मामले को शांत करवाया. बिना मान्यता के बोर्ड परीक्षा के फार्म भरवाकर यह स्कूल अब पूरी तरह फंस चुका है.

Latest Live TV