VIDEO: कांगड़ा में व्यास नदी तट पर स्थित यह शिवलिंग पाताल में धंसता जा रहा है

धर्मशाला05:08 PM IST Apr 15, 2019

हिमाचल की पावन धरा शिव महिमा से ओतप्रोत है. यहां पर अनेक प्राचीन शिव मंदिर स्थापित हैं. इसी प्रकार का देवाधिदेव भगवान शिव का अति प्राचीन श्री महाकालेश्वर मंदिर प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर जिला कांगड़ा के धरोहर गांव गरली-परागपुर के नजदीक व्यास नदी के तट पर स्थापित है. इस प्राचीन शिव मंदिर का सम्बन्ध हिन्दू धर्म के दोनों महाकाव्यों रामायण और महाभारत से जोड़ा जाता है. कालीनाथ महाकालेश्वर धाम को मुक्ति धाम के रूप में भी जाना जाता है. इस मंदिर में भगवान भोलेनाथ का शिवलिंग पाताल में धंस रहा है. यहां के लोग कहने लगे हैं कि धरती पर ज्यों—ज्यों पाप का बोझ बढ़ता जाएगा, यह शिवलिंग भी पाताल में धंसता जाएगा.

news18 hindi

हिमाचल की पावन धरा शिव महिमा से ओतप्रोत है. यहां पर अनेक प्राचीन शिव मंदिर स्थापित हैं. इसी प्रकार का देवाधिदेव भगवान शिव का अति प्राचीन श्री महाकालेश्वर मंदिर प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर जिला कांगड़ा के धरोहर गांव गरली-परागपुर के नजदीक व्यास नदी के तट पर स्थापित है. इस प्राचीन शिव मंदिर का सम्बन्ध हिन्दू धर्म के दोनों महाकाव्यों रामायण और महाभारत से जोड़ा जाता है. कालीनाथ महाकालेश्वर धाम को मुक्ति धाम के रूप में भी जाना जाता है. इस मंदिर में भगवान भोलेनाथ का शिवलिंग पाताल में धंस रहा है. यहां के लोग कहने लगे हैं कि धरती पर ज्यों—ज्यों पाप का बोझ बढ़ता जाएगा, यह शिवलिंग भी पाताल में धंसता जाएगा.

Latest Live TV